दैनिक भास्कर हिंदी: नियमों की उड़ाई धज्जियां : मातम के बीच अस्पताल में सजी वेज-नॉनवेज के साथ संगीत की महफिल

June 16th, 2021

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। अस्पताल में एक तरफ मातम पसरा तो दूसरी तरफ जमकर पार्टी चली, बात कुछ अजीब लग रही होगी, लेकिन यह शर्मसार कर देने वाला वाकया रामनगर स्थित मेडिकल कॉलेज एवं महिला अस्पताल के जिला प्रशिक्षण केंद्र में उस वक्स सामने आया, जब जिला आयुष अधिकारी डॉ. गजानन राऊत के रिटायर होने पर पार्टी रखी गई थी, जो जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजकुमार गहलोत की मौजूदगी में घंटों तक चली। बात 15 जून शाम 4 बजे की है, इस पार्टी में स्टाफ ने वेज-नॉनवेज का जमकर लुत्फ उठाया, इसके साथ गीत-संगीत की आवाज से परिसर गूंजता रहा। जबकि इसी दौरान वहां कोविड पेशेंट्स की मौतें भी हुईं थी। उसी दिन शाम को वहां एक महिला की मौत हुई थी। परिवार रोता बिलखता रहा, पति अपनी पत्नी के मौत का कारण पूछता रहा, लेकिन उसके आंसू किसी ने नहीं पोछे। 

इस अस्पताल में 100 बेड की सुविधा उपलब्ध करवाई गई। ताकि ज्यादा से ज्यादा कोरोना संक्रमितों की जान बचाई जा सके। वर्तमान में करीब 40 कोरोना मरीजों का उपचार चल रहा है। इनमें 21 आईसीयू और 5 वेंटिलेटर पर हैं।

रिटायरमेंट पार्टी से पहले 60 से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को वाट्सएप के माध्यम से न्यौता भेजा गया था। मंगलवार दोपहर 4 बजे सभी कर्मचारी वहां दावत खाने पहुंच गए। इस दौरान न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया और न ही किसी ने मास्क पहनने की जहमत उठाई। धारा 144 क्या है, शायद इन्हें मालूम नहीं होगा। मौसम भी बदला और मूसलाधार बारिश हुई। 

पिछले साल 29 मई 2020 को जिलाधिकारी कार्यालय के कोरोना नियंत्रण कक्ष में डीएचओ डॉ. राजकुमार गहलोत ने अपनी शादी की सालगिरह मनाई थी। इस दौरान सहकर्मी केक लेकर आए थे, वो भी बिना मास्क। पार्टी में फोटो खींची गई, वीडियो बनाया गया, जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था। यही कारण था कि इस पार्टी में मोबाइल लाना प्रतिबंधित कर दिया गया था। 

डॉ. राजकुमार गहलोत, जिला स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक जिला आयुष अधिकारी डॉ. गजानन राऊत का कार्यकाल समाप्त होने पर विदाई समारोह आयोजित किया गया था। सामूहिक भोजन का कार्यक्रम भी था, लेकिन आतिशबाजी नहीं की गई थी। इससे ज्यादा बात करने से उन्होंने साफ इनकार कर दिया।

खबरें और भी हैं...