comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जब्त रेमेडिसिविर इंजेक्शन पुलिस ने आरकेएस को सौंपे - कोतवाली और देहात पुलिस ने जब्त किए थे आठ इंजेक्शन

जब्त रेमेडिसिविर इंजेक्शन पुलिस ने आरकेएस को सौंपे - कोतवाली और देहात पुलिस ने जब्त किए थे आठ इंजेक्शन

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। कोतवाली और देहात पुलिस ने रेमेडिसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे बदमाशों की गिरफ्तारी कर उनसे आठ इंजेक्शन जब्त किए थे। पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल ने विशेष पत्राचार कर जब्त इंजेक्शन रोगी कल्याण समिति को सौंपने न्यायालय से अनुमति मांगी थी, ताकि समय रहते किसी जरुरतमंद मरीज को इंजेक्शन मिल सके। न्यायालय से अनुमति मिलने पर सोमवार देर शाम कोतवाली टीआई ने सिविल सर्जन डॉ.श्रीमती पी गोगिया को सौंप दिए है। कोतवाली टीआई मनीषराज भदौरिया ने बताया कि पुलिस द्वारा न्यायालय के समक्ष आवेदन किया गया था कि रेमडेसिविर इंजेक्शन कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए अति आवश्यक है। ऐसे में आरोपियों से जब्त आठ इंजेक्शन रोगी कल्याण समिति को सौंपने अनुमति दी जाए। ताकि संक्रमण से जूझ रहे अति गंभीर मरीजों का जीवन बचाया जा सके। सोमवार को न्यायालय द्वारा पुलिस को सशर्त इंजेक्शन आरकेएस को सौंपने की अनुमति प्रदान की गई। न्यायालय से अनुमति मिलने पर सोमवार देर शाम कोतवाली पुलिस द्वारा जब्त दो और देहात पुलिस द्वारा जब्त छह इंजेक्शन आरकेएस को सौंप दिए गए है। गौरतलब है कि 29 अप्रैल को देहात पुलिस ने अमरावती निवासी 24 वर्षीय अजिंक्य पिता प्रफुल्ल ठाकरे को छह इंजेक्शन के साथ पकड़ा था। वहीं कोतवाली पुलिस ने अस्पताल में ठेके पर कार्यरत वार्ड बॉय से दो इंजेक्शन जब्त किए थे। इस प्रकरण में चार युवकों को आरोपी बनाया गया था।
पुलिस के इस प्रयास से गंभीर मरीजों को राहत-
पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल के इस त्वरित प्रयास से आठ ऐसे गंभीर मरीजों को राहत मिलेगी। जिन्हें इन इंजेक्शन की अति आवश्यकता है। जबकि अभी जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत बनी है। एक-एक इंजेक्शन के लिए लोग मशक्कत करते दिखाई पड़ रहे है।

कमेंट करें
K7reh