दैनिक भास्कर हिंदी: एयर कनेक्टिविटी से जुड़ेगा शहडोल, लालपुर हवाई पट्टी को एयरपोर्ट बनाने शुरू हुआ सर्वे

March 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क शहडोल । जल्द ही शहडोल हवाई सेवा (एयर कनेक्टिविटी) से जुडऩे वाला है। सरकार की रीजनल कनेक्विटी स्कीम (आरसीएस) में शहडोल को भी शामिल किया गया है। इसके तहत शहडोल में हवाई पट्टी के विस्तार और विकास की तैयारी शुरू कर दी गई है। हवाई पट्टी के विस्तार के बाद शहडोल देश और विदेश के वायु मार्ग (एयर ट्रैफिक) से जुड़ सकेगा। इसके लिए सर्वे का काम शुरू हो गया है। शहडोल के साथ सतना और दमोह में भी हवाई पट्टी का विस्तार किया जाएगा।
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) इन हवाई अड्डों को सिविल एयरपोर्ट के रूप में विकसित करने की तैयारी कर रहा है। यह काम तीन चरणों में होना है। पहले चरण में सर्वे या योजना की व्यवहारिकता का अध्ययन करना है। इसके लिए भारतीय विमानन प्राधिकरण की ओर से एक समिति बनाई गई है। इसमें जबलपुर एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी भी शामिल हैं। शुक्रवार को जबलपुर एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी प्रारंभिक सर्वे के लिए शहडोल आए थे। राजस्व विभाग के कर्मचारियों के साथ उन्होंने लालपुर हवाई पट्टी का सर्वे किया। करीब तीन घंटे तक अधिकारी हवाई पट्टी में रहे और एयरपोर्ट के लिए जरूरी व्यवस्थाओंं की उपलब्धता की जानकारी जुटाते रहे। 
शासन को मिल चुकी है लालपुर की जमीन 
लालपुर में करीब 100 एकड़ की भूमि उपलब्ध है। हालांकि एयरपोर्ट के लिए ज्यादा जमीन की जरूरत होगी। इसके लिए भूमि अधिग्रहण करना पड़ेगा। पहले यह ओरियंट पेपर मिल को लीज पर दी गई थी। लीज खत्म होने के बाद भूमि राज्य सरकार को हैंडओवर की जा चुकी है। ऐसी सूचना है कि सर्वे के लिए आए अधिकारियों ने प्रोजेक्ट के संबंध में जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों से भी चर्चा की है। सर्वे करने के लिए आए अधिकारी पूरी रिपोर्ट तैयार करके ले गए हैं। दो-चार दिनों में रिपोर्ट संबंधित एजेंसी को भेज दी जाएगी। 
सर्वे में टीम ने यह देखा 
-बिजली और पानी की सप्लाई की स्थिति की जानकारी ली।
-शहडोल हवाई अड्डा योजना के अनुकूल है या नहीं। 
-पहुंच मार्ग की स्थिति और शहर से इसकी दूरी का आंकलन किया। 
-न्यूनतम 200 एकड़ भूमि की उपलब्धता है या नहीं।  
-टर्मिनल, सिटी साइट, सुरक्षा, हवाई पट्टी का जायजा लिया।
-भविष्य में इसके विस्तार के लिए जमीन की उपलब्धता। 
-लालपुर हवाई पट्टी से जल निकासी के इंतजाम 
को भी देखा।
उड़ेंगे एटीआर-72 श्रेणी के विमान
बताया जाता है कि अभी प्राथमिक तौर पर सर्वे किया गया है। इसमें देखा गया है कि यहां क्या-क्या उपलब्ध है। इसके बाद दूसरे चरण का भी सर्वे भी किया जा सकता है। अगर सबकुछ अनुकूल मिला तो एयरपोर्ट विस्तार का काम शुरू हो जाएगा। यहां हवाई पट्टी बन जाने के बाद एटीआर-72 श्रेणी के विमानों को उड़ाने की अनुमति मिल जाएगी। लालपुर हवाई पट्टी शहडोल मुख्यालय से 15 किमी की दूरी पर मेन रोड पर स्थित है। यह शहडोल व बुढ़ार नगर के बीचोंबीच है। यहां कनेक्टिविटी जैसी कोई समस्या नहीं है।  
इनका कहना है
 अभी प्रारंभिक सर्वे हुआ है। इसमें पाया गया कि जितनी जमीन की जरूरत है। उतनी नहीं है। जमीन का अधिग्रहण करना पड़ेगा। अब वे रिपोर्ट ऊपर भेजेंगे। 
पार्थ जायसवाल, प्रभारी कलेक्टर  
 

खबरें और भी हैं...