comScore

शिवभोजन योजना: शहर भर में महज 750 थाली ही मिलेगी, आबादी है 30 लाख की

शिवभोजन योजना: शहर भर में महज 750 थाली ही मिलेगी, आबादी है 30 लाख की

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी शिव भोजन थाली योजना शुरू होने के पूर्व ही ऊंट के मुंह में जीरा साबित होने के संकेत मिल रहे हैं। नागपुर शहर की आबादी 30 लाख है और 30 लाख लोगों के लिए महज 750 थाली की योजना है। इस थाली का स्वाद कितने लोग चख पाएंगे आैर कितने लोग केवल इसे देख पाएंगे, यह बताना भी मुश्किल है। शहर में 5 केंद्र शुरू होने जा रहे हैं आैर एक केंद्र में अधिकतम 150 थाली ही बेची जा सकेंगी। मंत्रिमंडल मंजूरी की 24 दिसंबर 2019 की जो "नोट' जारी हुआ था, उसमें शिव भोजन थाली के 750 केंद्र शुरू होने की जानकारी दी गई थी। राज्य सरकार ने अब अपनी गलती सुधार ली है। 

शिव भोजन थाली के शहर में 750 केंद्र शुरू होने की खबर से महिला बचत गट, वर्तमान में मेस, होटल या भोजनलाय चलाने वाले, स्वयंसेवी संस्था (एनजीआे) की बांछे खिल गई थी। शिव भोजन थाली के केंद्र शुरू करने का सपना देख रहे लोगों व संस्थाआें की अरमानों पर पानी फिर गया है। राज्य सरकार ने अपनी गलती सुधारते हुए शहर में केवल 750 थाली की बिक्री करने का निर्णय लिया है। केवल 5 केंद्रों से 750 थालियां बेची जाएंगी। भोजन करने वाला केवल 10 रुपए देगा आैर सरकार हर थाली पर 40 रुपए की सब्सिडी देगी। 

ग्रामवासियों के लिए फिलहाल कोई थाली नहीं 
महाविकास आघाड़ी सरकार को शहर की अपेक्षा ग्रामीण से जबरदस्त सीटें मिली हैं। ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताआें ने भाजपा की अपेक्षा शिवसेना, कांग्रेस व राकांपा को ज्यादा पसंद किया, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में शिव भोजन थाली की फिलहाल योजना या व्यवस्था नहीं है। नागपुर ग्रामीण की आबादी 20 लाख से ज्यादा है, लेकिन इन क्षेत्रों के लिए एक भी केंद्र नहीं है। ग्रामवासियों को अगर शिव भोजन थाली चाहिए, तो गांव से शहर आकर स्वाद चखना होगा, वह भी दोपहर 12 से दोपहर 2 बजे तक। 

सुधार हो गया, केवल 5 जगह खुलेंगे केंद्र
कैबिनेट मंजूरी का जो नोट आया था, उसमें शहर में 750 केंद्र व एक केंद्र से अधिकतम 500 थाली की बिक्री की जानकारी थी। सरकार ने इसमें सुधार कर लिया है। शहर में हर दिन  750 थाली ही बेची जाएगी। यानी एक केंद्र से अधिकतम 150 थाली। शहर में 5 जगह केंद्र शुरू होंगे। केंद्र बढ़ाने के बारे में सरकार ही फैसला ले सकती है। फिलहाल नागपुर ग्रामीण के लिए कोई केंद्र नहीं है। - अनिल सवई, खाद्यान्न वितरण अधिकारी नागपुर
 

कमेंट करें
3grS6