निशाना : विदर्भ की जनता को न्याय देने के लिए नागपुर में होना चाहिए था सत्र

November 25th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दरेकर ने नागपुर के बदले मुंबई में शीत सत्र आयोजित करने के राज्य सरकार के फैसले की आलोचना की है। दरेकर ने कहा कि विदर्भ की जनता को न्याय देने के लिए नागपुर में अधिवेशन होना चाहिए था। लेकिन सरकार ने मुंबई में शीत सत्र आयोजित करने का फैसला किया है। शीत सत्र की अवधि एक सप्ताह रखी गई है। लेकिन प्रत्यक्ष रूप से सदन में दो से तीन कामकाज हो पाएगा। क्योंकि सत्र की अवधि के दौरान कुछ छुट्टियां भी हैं। दरेकर ने कहा कि विदर्भ से आने वाले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले नागपुर में अधिवेशन न करने पर कुछ टिप्पणी नहीं कर रहे हैं। इससे साफ है कि कांग्रेस के लिए जनता से ज्यादा सत्ता महत्वपूर्ण हो गई है

खबरें और भी हैं...