comScore

 प्रार्थी बनकर झिरपा पुलिस सहायता केन्द्र पहुंचे एसपी, सोता मिला स्टाफ

 प्रार्थी बनकर झिरपा पुलिस सहायता केन्द्र पहुंचे एसपी, सोता मिला स्टाफ

- माहुलझिर थाना टीआई को दिए निर्देश, मुस्तैदी से कराएं ड्यूटी
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा/परासिया।
झिरपा पुलिस सहायता केन्द्र में गुरुवार रात करीब 11.30 बजे मटकुली रोड पर एक्सीडेंट की सूचना लेकर पहुंचे एक प्रार्थी को बत्ती बुझाकर सो रहे स्टाफ ने बाहर से ही यह कहकर चलता कर दिया कि वह हमारी सीमा नहीं है। साथ ही डायल-100 में कॉल करने की सलाह भी दे दी। प्रार्थी जब नजदीक खड़ी डायल-100 के पास पहुंचे तो उसमें से भी स्टाफ गायब था। प्रार्थी कोई और नहीं बल्कि जिले के पुलिस कप्तान थे। जो अपने वाहन की बत्ती बुझाकर अचानक झिरपा पुलिस सहायता केन्द्र पहुंचे थे। बाद में जब कप्तान ने अपनी पहचान बताई तो सहायता केन्द्र में मौजूद स्टाफ की नींद उड़ गई। एसपी विवेक अग्रवाल ने मौजूद स्टाफ को फटकार लगाई और अलर्ट रहने की सीख दी। वहीं माहुलझिर थाना प्रभारी के पहुुंचने पर उन्हें भी स्टाफ को कंट्रोल में रखने और मुस्तैदी से काम कराने के निर्देश दिए।
टीआई का भी मोबाइल था बंद-
बताया जा रहा है कि झिरपा सहायता केन्द्र में मिली अव्यवस्था से नाराज पुलिस अधीक्षक ने टीआई को मौके पर बुलाने स्टाफ से कहा। स्टाफ ने टीआई के मोबाइल पर संपर्क किया तो उनका मोबाइल भी बंद था। बाद में स्टाफ ने टीआई के ड्राइवर से फोन पर संपर्क किया और टीआई को सूचना दी। हालांकि कुछ देर में ही टीआई मौके पर पहुंच गए थे। पुलिस अधीक्षक ने सहायता केन्द्र में बेहतर व्यवस्था बनाने और पुलिस स्टाफ को मुस्तैदी से ड्यूटी करने की हिदायत दी है।  
क्या कहते हैं अधिकारी-
गुरुवार रात झिरपा सहायता केन्द्र का औचक निरीक्षण किया गया था। लापरवाही पर स्टाफ को फटकार लगाई गई है। वहीं टीआई को निर्देश दिए गए है कि स्टाफ से ड्यूटी मुस्तैदी से कराई जाए।
- विवेक अग्रवाल, एसपी

कमेंट करें
6FB7g