comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

भिड़े और चंपक चाचा अचानक पहुंच गए बापू की कर्मस्थली, शूटिंग देखने लगी भीड़

भिड़े और चंपक चाचा अचानक पहुंच गए बापू की कर्मस्थली, शूटिंग देखने लगी भीड़

डिजिटल डेस्क, वर्धा । महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर स्वच्छता का संदेश देने वाली बापू की कर्मभूमि सेवाग्राम आश्रम पर चर्चित टीवी सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा का विशेष एपिसोड की शूटिंग की गई। इस समय भिड़े और चंपक चाचा को  देखने के लिए सैकड़ों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। 

बता दें कि महात्मा गांधी के विचारों को संप्रेेषित करते बापू कुटी आश्रम पर तारक मेहता का उल्टा चश्मा सीरियल में गांधी जयंती के अवसर पर विशेष एपीसोड दिखाया जाने वाला है। इसमें सेवाग्राम में स्थित बापू कुटी, बा कुटी, पागल दौड़ और गांधी के जीवित विचारों के साथ स्वच्छता, स्वावलंबन का विचार संप्रेषित किया जाने वाला है। जिसकी शूटिंग सोमवार को  सेवाग्राम आश्रम में हुआ। शूटिंग के दौरान टप्पू सेना के कलाकार चंपक चाचा के साथ 7  कलाकार और टेक्निशियन टीम सहित 25  लोग मुंबई से वर्धा आए हुए थे।  जिन्हें देखने के लिए  युवाओं के साथ बुजुर्गों की भीड़ उमड़ पड़ी। भीड़ को काबू में रखने के लिए पुलिस ने  कड़ा बंदोबस्त लगा रखा था। तारक मेहता का उल्टा चश्मा बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक काफी पसंद करते हैं।

कांग्रेस निकालेगी सेवाग्राम आश्रम से पदयात्रा

महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस  सेवादल की ओर से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती महोत्सव के समापन अवसर पर बुधवार 2 अक्टूबर को सुबह 10  बजे से सेवाग्राम आश्रम से हुतात्मा स्मारक आदर्श नगर तक नेशनल कांग्रेस की पदयात्रा का आयोजन किया गया। बता दें कि, पूरे देश में राष्ट्रपिता   गांधी के 150 नें जयंती शताब्दी महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। ऐसे में महाराष्ट्र कांग्रेस सेवादल की ओर से बुधवार 2 अक्टूबर को सुबह 10  बजे कांग्रेस की सेवाग्राम आश्रम से  हुतात्मा स्मारक आदर्श नगर तक पदयात्रा निकाली जा रही है। पदयात्रा के बाद म्हाड़ा कालोनी के रत्नाकर सभगृह में महाराष्ट्र प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आयोजित की गई है। पदयात्रा में मल्लिकार्जून खरगे, अ.भा. कांग्रेस कमेटी और महाराष्ट्र राज्य प्रभारी मुकुल वासनिक, अ. भा. कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष लालजी देसाई, सेवादल के सचिव मंगलसिंह सोलंकी, अ.भा. कांग्रेस के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोरात, पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आशोक चव्हाण आदि उपस्थित रहेंगे। 

कमेंट करें
zwRmH
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।