comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

हाईकोर्ट ने कहा - राज्य महिला आयोग के पास न्य़ायिक अधिकार नहीं 

हाईकोर्ट ने कहा - राज्य महिला आयोग के पास न्य़ायिक अधिकार नहीं 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य महिला आयोग के पास किसी को सपंत्ति का अधिकार दिलाने का अधिकार नहीं है। न्यायिक निर्णय लेना आयोग के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है। बांबे हाईकोर्ट ने अपने एक आदेश में बात स्पष्ट की है। महानगर निवासी सुजीत लावंडे ने आयोग की ओर से अप्रैल 2018 में जारी किए गए एक आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। दरअसल लावंडे ने अपनी मां को घर से बाहर निकाल दिया था। इसलिए लावंड की मां ने महिला आयोग के पास शिकायत की थी। महिला आयोग ने 4 अप्रैल 2018 को अपने आदेश में कहा था कि लावंडे घर को खाली कर उसे अपनी मां को सौपे। यहीं नहीं वह अपनी मां के मेडिकल खर्च का भी वहन करे और तुरंत अपनी मां को उनका आधारकार्ड, पैनकार्ड व फ्लैट का शेयर सर्टिफिकेट वापस कर दे। आयोग ने लावंडे को 15 दिन के भीतर इस आदेश का पालन करने को कहा था। 

महिला आयोग के पास संपत्ति दिलाने का अधिकार नहीं

लावंडे ने आयोग के इस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। न्यायमूर्ति अकिल कुरैशी व न्यायमूर्ति एसजे काथावाला की खंडपीठ के सामने याचिका पर सुनवाई हुई। इस दौरान लावंडे की ओर से पैरवी कर रहे वकील ने दावा किया कि आयोग के पास न्यायिक निर्णय लेने का अधिकार नहीं है। आयोग ने अपने क्षेत्राधिकार के बाहर जाकर आदेश दिया है। जबकि लावंडे की मां की ओर से पैरवी कर रहे वकील ने कहा कि मेरे मुवक्किल की मां घर की मालिक हैं। आयोग ने सभी तथ्यों पर गौर करने के बाद उचित आदेश जारी किया है। मामले से जुड़े दोनों पक्षों को सुनने व सुप्रीम कोर्ट के आदेशों पर गौर करने के बाद खंडपीठ ने कहा कि फिलहाल हम संपत्ति के मालिकाना हक के मुद्दे को नहीं देख रहे हैं। अभी हम सिर्फ यह परीक्षण कर रहे है कि मामले को लेकर आयोग ने जो आदेश दिया है, वह सही है अथवा नहीं। 

खंडपीठ ने साफ किया कि आयोग के पास न्यायिक निर्णय लेने का अधिकार नहीं है। यह बात कहते हुए खंडपीठ ने आयोग के आदेश के उस हिस्से को खत्म कर दिया जिसमे 15 दिन के भीतर आयोग के आदेश का पालन करने के लिए कहा गया था। खंडपीठ ने कहा कि आयोग के आदेश का ऊपरी हिस्सा सिफारिशी स्वरुप में है। खंडपीठ ने अपने इस आदेश की प्रति जानकारी के लिए राज्य महिला आयोग के रजिस्ट्रार के पास भेजने का निर्देश दिया है।   
 

कमेंट करें
XUNW0
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।