दैनिक भास्कर हिंदी: लक्ष्य पर ध्यान, मेहनत ने दिलाई कैट के होनहार स्टूडेंट्स को सफलता

January 7th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शनिवार को घोषित कैट के नतीजों में नागपुर के विद्यार्थियों ने सफलता प्राप्त कर शहर का नाम रौशन किया है। इनमें शांतनु डाटे ने 99.88, चैतन्या गानू ने 99.64, अनुज देवगाडे ने 99.44, शिखर श्रीकांत ने 99.35, जिगर बुद्धादेव ने 99.23, निकिता मुदलियार ने 99.31, सौरभ राय ने 99.26, सुशांत ठोंबरे ने 99.19, शांरगधर देशमुख ने 99.19 प्रतिशत पर्सेंटाइल प्राप्त किया है। बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले कुछ परीक्षार्थियों से सिटी भास्कर ने की बातचीत। 

लक्ष्य का चयन जरूरी
मुझे जो सफलता मिली है, उससे मैं खुश हूं। किसी भी सफलता के लिए सबसे जरूरी है लक्ष्य का चयन और उस पर केंद्रित रहना। कैट के लिए तैयारी करते समय मैंने अपना पूरा ध्यान इसी पर लगाया और इस दौरान अन्य परीक्षाओं में शामिल नहीं हुआ। पूरे वर्ष शेड्यूल बनाकर पढ़ाई की और लगातार मॉडल प्रश्नपत्र हल किए। वीएनआईटी से इलेक्ट्राॅनिक्स में बीई करने के बाद एमबीए इसलिए किया कि इंजीनियरिंग की डिग्री के साथ एमबीए होने पर अवसर बढ़ जाते हैं। मेरे माता-पिता को पूरा यकीन था कि मुझे  सफलता जरूर मिलेगी। बेहतरीन परिणाम ने उनकी खुशियां कई गुणा बढ़ा दी हैं। पिता सुनील मधुकर ठोंबरे और माता प्राची ठोंबरे ने इसे मेरे कठिन परिश्रम का परिणाम कहा है। मेरी प्राथमिकता अहमदाबाद, बंगलुरु, कोलकाता, लखनऊ, इंदौर में प्रवेश लेना है।                      
-सुशांत ठोंबरे

मेहनत से मिली सफलता

अपने रिजल्ट को लेकर मैं काफी खुश हूं। मैंने इंजीनयरिंग करते हुए तीसरे वर्ष में तय कर लिया था कि प्रबंधन के क्षेत्र में जाना है। मेरे लिए यह निर्णय लेना आसान नहीं था, लेकिन वित्त क्षेत्र में रुचि होने से मुझे काफी प्रेरणा मिली। इसके लिए कड़ी मेहनत की। प्रवेश के लिए अहमदाबाद, कोलकाता, बंगलुरु आईआईएम को प्राथमिकता देने का निर्णय लिया है। दिन-रात मेहनत और मार्गदर्शन से सफलता पाना संभव हो पाया है। देश के सर्वोच्च 6 संस्थानों में प्रवेश का मैंने लक्ष्य तय किया है।       
-निकिता मुदलियार

पैटर्न आधारित पेपर बार-बार साल्व किया

मैंने वीएनआईटी से मेटलरजी एडं मैटेरियल में बीई किया है। मेरा लक्ष्य अपने पारिवारिक व्यवसाय को और आगे बढ़ाना है। मुझे पैटर्न अधारित पेपर बार-बार साल्व करने से काफी मदद मिली है। हर एमबीएम करने वाले विद्यार्थी की तरह मेरा सपना भी अहमदाबाद में प्रवेश प्राप्त करना  है। वैसे बंगलुरु, कोलकाता को भी प्राथमिक सूची में मैंने रखा है।   
-शांरगधर देशमुख

उम्मीद थी सफलता मिली

कैट -2016 में अपेक्षा के अनुरूप सफलता नहीं मिलने पर मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी। मेहनत करता रहा। मुझे लगता है इस तरह की परीक्षा में सफलता के लिए मॉक टेस्ट का ज्यादा से ज्यादा अभ्यास सबसे अच्छा तरीका है। मॉक टेस्ट से मुझे अपनी कमियों को समझने और उसे दूर करने में सफलता मिली है। इस बार नतीजा उम्मीद के अनुसार काफी अच्छा आया है।  
-शांतनु डाटे

मॉक टेस्ट से अच्छा प्रदर्शन

कैट परीक्षा की तैयारी के दौरान मैंने सबसे ज्यादा ध्यान मॉक टेस्ट में अच्छे प्रदर्शन पर दिया है। इससे मैंने वास्तविक परीक्षा में प्रदर्शन उम्मीद के अनुसार किया है। मॉक टेस्ट के कारण मेरे अंदर विषयों के सटीक विश्लेषण की क्षमता बढ़ गई।          
-चैतन्य मानू
 

खबरें और भी हैं...