comScore

मुख्यमंत्री बताए बाढ़ का असली हालः सुले ,  बाढ़ को लेकर राजनीति भी तेज 

मुख्यमंत्री बताए बाढ़ का असली हालः सुले ,  बाढ़ को लेकर राजनीति भी तेज 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां बढ़ गई है, इसलिए बाढ़ को लेकर राजनीति रुकने का नाम नहीं ले रही है। पश्चिम महाराष्ट्र में बाढ़ को लेकर अब एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर हमला बोला है। मंगलवार को सुले ने मंत्रालय पत्रकार कक्ष में कहा कि ‘पारदर्शक’ शब्द से मुख्यमंत्री को बहुत लगाव है। इसलिए वे पारदर्शिता बरतते हुए बताएं कि बाढ़ ग्रस्त इलाकों में वास्तविक स्थिति क्या है।  उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित जिलों को फिलहाल मदद की जरूरत है और इस मामले की जांच भी होनी चाहिए। बाढ़ प्रभावितों तक तत्काल दवाएं पहुंचनी चाहिए साथ ही उनके क्षतिग्रस्त घरों को बनाने की भी जरूरत है। सुले ने कहा कि शरद पवार जी के मुख्यमंत्री रहते लातूर में भूकंप आया था। उस वक्त वे 15 दिनों तक प्रशासन को लेकर वहां डेरा डाले हुए थे। एनसीपी सांसद ने कहा कि ऐसी स्थिति में प्रभावित इलाकों में जाकर वहां बैठ जाना चाहिए इससे पीड़ित लोगों को सहारा मिलता है। उन्होंने कहा कि पवार साहब आज भी कराड जा रहे हैं। हमारे सारे नेता अजित पवार, धनंजय मुंडे, जयंत पाटील, हसन मुश्रीफ फिल्ड पर जमे हुए हैं।  


धनादेश के बल पर निकाल रहे जनादेश यात्रा: मुंडे   

विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि बाढ़ में सेल्फी खींचने वाले पिस्तौल (गिरीश) राव महाजन और कृषि राज्यमंत्री सदाभाऊ खोत का मुख्यमंत्री को तत्काल इस्तीफा लेना चाहिए था लेकिन मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को क्लिनचिट देकर पूरे राज्य और बाढ़ प्रभावित इलाकों के लोगों के जख्म पर नमक छिड़कने का काम किया है। मुख्यमंत्री अपने आप को इमानदार समझते हैं लेकिन उनमें मंत्रियों का इस्तीफा लेने की हिम्मत नहीं है। मुख्यमंत्री दिखाते कुछ हैं और करते कुछ और हैं। मुंडे ने कहा कि राज्य के कई इलाकों में बाढ़ है लेकिन मुख्यमंत्री महाजनादेश यात्रा के दूसरे चरण की शुरुआत 17 अगस्त से करने वाले हैं। मुख्यमंत्री धनादेश के बल पर महाजनादेश यात्रा निकाल रहे हैं। मुंडे ने कहा कि मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए। 

बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए एनसीपी ने दिये 50 लाख

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रवादी वेलफेयर ट्रस्ट की तरफ से बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 50 लाख रुपए की मदद दी गई है। मंगलवार को एनसीपी नेताओं ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात कर उन्हें 50 लाख का चेक सौंपा। पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने चेक के साथ अपनी 25 सूत्री मांग पत्र भी मुख्यमंत्री को सौंपा है। पार्टी प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि सांगली, कोल्हापुर, सतारा, कोकण व विदर्भ में बाढ़ प्रभावितों को तत्काल मदद पहुंचाने की जरुरत है। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बाढ़ पीड़ितों से मिल रहे हैं। साथ ही पार्टी के कार्यकर्ता भी बाढ़ पीड़ितों की मदद कर रहे। इस मौके पर राकांपा की वरिष्ठ नेता सांसद सुप्रियाताई सुले, धनंजय मुंडे, नवाब मलिक, हेमंत टकले, जितेंद्र आव्हाड, विदया चव्हाण, अनिकेत तटकरे, अदिती तटकरे, युवक कार्याध्यक्ष सूरज चव्हाण आदि मौजूद थे। 

कमेंट करें
oD5iA