दैनिक भास्कर हिंदी: विद्यार्थी को आत्महत्या के लिए मजबूर करनेवाला शिक्षक गिरफ्तार

December 16th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। 17 साल के विद्यार्थी को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में पुलिस ने एक 39 वर्षीय शिक्षक को गिरफ्तार किया है। वारदात ठाणे जिले के मुंब्रा इलाके की है। आरोप है कि शिक्षक विद्यार्थी से 10 हजार रुपए की मांग कर रहा था और पैसे न देने पर फेल करने की धमकी दे रहा था, इससे परेशान विद्यार्थी ने आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने वाला विद्यार्थी ऋषील धुमाल डोंबिवली इलाके में स्थित डीएनसी कॉलेज में ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ता था। यही पढ़ाने वाला आरोपी शिक्षक ओमकार भोईर उससे फीस के अलावा 10 हजार रुपए की अलग से मांग कर रहा था और पैसे न देने पर परीक्षा में फेल करने के लिए धमका रहा था। यही नहीं पैसे देने का दबाव बनाने के लिए भोईर ऋषील को किसी न किसी बहाने कक्षा में दूसरे छात्रों के सामने अपमानित और प्रताड़ित करता था। परेशान ऋषील ने इसी साल 14  फरवरी को दिवा के गणेशनगर इलाके में स्थित अपने घर में आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के बाद विद्यार्थी के पिता श्रीनाथ धुमाल ने भोईर के खिलाफ मुंब्रा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। शुरूआती छानबीन के बाद पुलिस ने मामले में आईपीसी की धारा 306 के तहत आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में एफआईआर दर्ज कर मंगलवार रात आरोपी भोईर को गिरफ्तार कर लिया। सीनियर इंस्पेक्टर एमएस कड ने बताया कि आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसे पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है। 

चोरी के लिए हवाई सफर करनेवाली महिला गिरफ्तार

हवाई जहाज से सफर कर मुंबई समेत देश के बड़े-बड़े शहरों में जाकर चोरी करने वाली एक 46 वर्षीय महिला को मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। आरोपी महिला इतनी शातिर है कि दो साल की तलाश के बाद मुंबई पुलिस उस तक पहुंच पाई। चोरी के लिए महिला बड़े-बड़े मॉल्स में स्थित शोरूम और पार्लर को निशाना बनाती थी। बैंगलुरू में रहने वाली आरोपी से पुलिस ने चोरी के गहने, मोबाइल, नकदी और कागजात भी बरामद किए हैं। गिरफ्तार आरोपी का नाम मुनमुन हुसैन उर्फ अर्चना बरुआ उर्फ निक्की है। मामले में शिकायतकर्ता साल 2019 के अप्रैल महीने में लोअर परेल इलाके में स्थित फीनिक्स मॉल के जारा शोरुम में गईं थीं। वहां खरीददारी के बाद बिल देते समय शिकायतकर्ता ने अपना पर्स नीचे रख दिया और बाद में पर्स गायब पाया। पर्स में गहने, नकदी, मोबाइल समेत 14 लाख 90 हजार रुपए से ज्यादा का सामान था। उन्होंने एनएमजोशी मार्ग पुलिस स्टेशन मे चोरी की शिकायत दर्ज कराई। इसके अलावा शिवाजी पार्क इलाके में लैक्मे शोरुम समेत तीन इसी तरह की हाईप्रोफाइल चोरी के मामलों की शिकायत आई तो अपराध शाखा ने भी समानांतर जांच शुरू की। सीसीटीवी की जांच में यह साफ हो गया कि पर्स चुराने वाली एक महिला है लेकिन उसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिल रही थी। सीनियर इंस्पेक्टर जगदीश साईल की अगुआई में काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने उन मोबाइल नंबरों की पहचान की जो वारदात के समय घटनास्थल के आसपास सक्रिय थे। आरोपी महिला की पहचान की। इसके बाद पुलिस अर्चना बरुआ के सोशल मीडिया एकाउंट तक पहुंची तो उसे कुछ तस्वीरें मिलीं जिनमें आरोपी महिला ने वही कपड़े पहने थे जो चोरी को दौरान सीसीटीवी कैमरों में कैद हुए थे। पुख्ता पहचान के बाद आरोपी महिला  को बैंगलुरू स्थित उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया। छानबीन में खुलासा हुआ है कि आरोपी महिला कोलकाता, हैदराबाद, बैंगलुरू, ठाणे, मुंबई समेत कई बड़े शहरों के हाईप्रोफाइल दुकानों में इसी तरह चोरी कर चुकी है।