दैनिक भास्कर हिंदी: नाम बदल फरारी काट रहा था धोखाधड़ी का आरोपी -आईजी की टीम ने किया गिरफ्तार

October 14th, 2019

डिजिटल डेस्क शहडोल । फरार वारंटियों की पकड़ा-धकड़ी के लिए पुलिस महानिरीक्षक द्वारा बनाई गई विशेष टीम ने धोखाधड़ी के एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो सात वर्ष से फरार था। आरोपी भूरा सिंह गोड 46 वर्ष पिता छोटे लाल सिंह गोड निवासी धौरई पड़ोसी जिले उमरिया के पाली क्षेत्र में नाम बदलकर गुमनामी की जिंदगी जी रहा था। जिसे पकडऩे के लिए पुलिस को ब्लाक का कर्मचारी बनना पड़ा। वर्ष 2012 से फरार आरोपी के विरुद्ध एडीजे कोर्ट से जारी स्थायी वारंट के अनुसार धारा 420, 467, 468, 452, 147, 148, 120 बी, 294, 506 भादवि  का प्रकरण कोतवाली शहडोल में दर्ज था। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2007 में ग्राम पकरिया निवासी भोली यादव द्वारा ग्राम छतरपुर स्थित जमीन का हस्तांतरण कूटरचना से करा लिए जाने की शिकायत की गई थी। कोतवाली पुलिस द्वारा जांच के बाद भूरा सिंह सहित 6 अन्य ऊषा मिश्रा, विनोद मिश्रा, अशद अली, आसिफ अली व अमजद के विरुद्ध वर्ष 11 जनवरी 2011 को प्रकरण दर्ज किया गया था। 
जंगल में मिला आरोपी
आरोपी के ग्राम घुनघुटी में होने की सूचना पर आईजी की विशेष टीम के एएसआई राकेश बागरी, रजनीश तिवारी, आरक्षक गिरीश मिश्रा व शिवकरण यादव एसपी के मार्गदर्शन में सक्रिय हुए। सिविल डे्रस में पुलिस कर्मचारी रविवार की सुबह घुनघुटी पहुंचे। जहां अपने आपको ब्लाक का कर्मचारी बताते हुए कहा कि भूरा को आवास मंजूर हुआ है। सर्वे करने आए हैं। पता चला भूरा नाम बदलकर लालू नाम से जंगल में झोपड़ी बनाकर रह रहा है।  जिसे वहीं से गिरफ्तार कर लिया गया।
11 वर्ष से फरार वारंटी धराया
आईजी की इसी टीम द्वारा वर्ष 2008 से फरार चल रहे स्थाई वारंटी कालूराम उर्फ  कल्याण पिता लोहारी भूमिया को भी गिरफ्तार करने में सफलता पाई। उसके विरुद्ध न्यायालय से धारा 342, 323, 324, 506 के मामले में स्थाई वारंटी जारी था। 11 वर्ष फरार आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेजा गया।