नागपुर में फिर अधिवेशन नहीं: तब तो 55 सालों बाद नागपुर की बजाय मुंबई में हुआ था शीतकालिन सत्र 

November 29th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। 55 साल बाद 2018 में राज्य की तत्कालिन फडणवीस सरकार ने शीतकालिन सत्र नागपुर की बजाय मुंबई में आयोजित किया था। बाद में विधानमंडल का मानसून सत्र जुलाई महिने में नागपुर में आयोजित किया गया था। हालांकि यह प्रयोग सफल नहीं रहा था। भारी बरसात से विधानभवन जलमग्न हो गया था। महाराष्ट्र विधान मंडल का शीतकालीन सत्र राज्य की उपराजधानी नागपुर में दिसंबर के महिने में होता रहा है। 1963 के बाद 2018 में पहली बार मुंबई में शीतकालीन सत्र हुआ था। वर्ष 1963 में 9 दिसंबर से 20 दिसंबर तक मुंबई में शीतकालीन सत्र चला था। कोरोना संकट के चलते वर्ष 2020 में भी शीतकालिन सत्र नागपुर की बजाय मुंबई में आयोजित करना पड़ा था। यह सत्र केवल दो दिनों का था। अब लगातार दूसरे साल नागपुर की बजाय मुंबई में शीतकालिन सत्र आयोजित करने का फैसला लिया गया है। इस बार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के स्वास्थ्य कारणों के चलते यह फैसला लेना पड़ा है। 

अब बजट सत्र की मांग 

अब विपक्ष सहित विदर्भ के जनप्रतिनिधि मार्च में होने वाले बजट सत्र को मुंबई की बजाय नागपुर में आयोजित करने की मांग कर रहे हैं। फिलहाल राज्य के संसदीय कार्य मंत्री अनिल परब ने इस बाबत मुख्यमंत्री ठाकरे और वित्त मंत्री अजित पवार से चर्चा करने का आश्वासन दिया है।