दैनिक भास्कर हिंदी: तालाब में डूबने से तीन बच्चों की मौत, नहाते समस हुआ हादसा

June 15th, 2019

डिजिटज डेस्क, छिंदवाड़ा/चौरई। चौरई के ग्राम सीताझिर और मेहगोरा में शुक्रवार को दो दर्दनाक हादसों में तीन बच्चों की जान चली गई। तालाब में नहाने गए इन बच्चों की पानी में डूबने से मौत हो गई। शुक्रवार दोपहर सीताझिर गांव से लगे तालाब में नहाने गए तीन बच्चों में से दो पानी की गहराई में समा गए। वहीं मेहगोरा में दूसरी घटना सामने आई। जहां एक बच्चा नहाते वक्त तालाब में डूब गया। इन दोनों हादसों में तीन बच्चों ने अपनी जान गवां दी। घटनाओं की जानकारी मिलते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची और बच्चों के शव तालाब से निकालकर पीएम कराया गया। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है।

अभिषेक को बचाने संतकुमारी ने किया संघर्ष, दोनों डूबे

दोपहर घर से शौच के लिए निकले तीन बच्चे 7 वर्षीय अभिषेक पिता रमेश उईके, 9 वर्षीय संतकुमारी पिता मानसा उईके और सरगम खेलते -खेलते सीताझिर के तालाब पहुंच गए। तीनों तालाब में नहा रहे थे। इसी दौरान अभिषेक पानी की गहराई में समाने लगा। अभिषेक की पुकार सुनकर संतकुमारी उसे बचाने गहराई में उतर गई। अभिषेक और संतकुमारी को पानी में डूबता देख सरगम मदद के लिए भागकर गांव पहुंची। सरगम ने परिजनों को इसकी सूचना दी। जब तक परिजन उन्हें बचाने पहुंचे तब तक दोनों डूब चुके थे। काफी देर तलाश के बाद दोनों के शव तालाब से निकाले गए। 

तालाब में नहा रहे दो दोस्त, एक डूबा

मेहगोरा का 9 वर्षीय सागर पिता इंद्रकुमार यादव अपने दोस्त साजन के साथ शुक्रवार दोपहर गांव से लगे तालाब में नहाने गया था। काफी देर तक तालाब में नहाने के दौरान सागर गहराई में डूब गया। साजन ने सागर को पानी में डूबता देखा तो वह भागकर गांव पहुंचा। परिजनों को इसकी सूचना दी। आनन-फानन परिजन अन्य ग्रामीणों के साथ तालाब पहुंचे। तब तक सागर पानी में डूब चुका था। ग्रामीणों ने शव तालाब से बाहर निकाला और पुलिस को इसकी सूचना दी। बताया जा रहा है कि गर्मी के दिनों में गांव के बच्चे अक्सर इस तालाब में नहाने जाते है। 

दोनों गांव में पसरा मातम

इन हादसों के बाद सीताझिर और मेहगोरा दोनों गांव में मातम का सन्नाटा पसरा हुआ है। सीताझिर के दो बच्चे और मेहगोरा के एक बच्चे की तालाब में डूबने से असमय मौत से तीनों परिवार में मातम छाया है। परिजनों को भरोसा ही नहीं हो पा रहा है कि सुबह तक घर में खेल रहे बच्चे दोपहर में उन्हें छोड़कर चले गए।