comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

त्रिदिवसीय कराडे नाट्य महोत्सव : फांस में दिखी किसानों की पीड़ा, बापू में गांधीजी का अकेलापन

त्रिदिवसीय कराडे नाट्य महोत्सव : फांस में दिखी किसानों की पीड़ा, बापू में गांधीजी का अकेलापन

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  नाटक ‘फांस’ के मंचन के साथ  त्रिदिवसीय कराडे नाट्य महोत्सव का समापन हुआ। 27 से 29 सितंबर तक चले महोत्सव में नाटक बापू, असमंजस बापू,  लीला नंदलाल की और फांस नाटक का मंचन हुआ। वनामति में हुए नाट्य महोत्सव का आयोजन राष्ट्रभाषा परिवार, नागपुर की ओर से किया गया था।   प्रस्तुत नाटक ‘फांस’ में किसान विरोधी नीति, उपेक्षा, कर्ज की मार, घाटे की खेती के बीच पारिवारिक तनाव में जीते किसान और उसके पलायन के बाद उसका अन्य किसान परिवारों पर असर, धार्मिक आंडबर की कहानी पेश की गई। संजीव की कहानी पर आधारित ‘फांस’ का नाट्य रूपांतरण संजय शाह ने किया है। भारतीय जन नाट्य संघ, रायपुर की इस प्रस्तुति में परिकल्पना एवं निर्देशन मिनहाज असद ने किया है। 

‘बापू’ में बताया गया गांधीजी का अकेलापन
महोत्सव की शुरुआत 27 सितंबर को नाटक ‘बापू’ के मंचन से हुई थी। देश की आजादी के ठीक पहले और आजादी मिलने के पांच माह बाद, जिस दिन राष्ट्रपिता बापू की हत्या की गई, इन दिनों के बीच में हुई घटनाओं को बड़े ही संजीदा तरीके से नाटक बापू में दिखाया गया। नाटक के माध्यम से बताया गया कि उन मुश्किल दिनों में गांधीजी का अकेलापन एक कचोटने वाली सच्चाई है, जिसे हमें समझना है। नट मंडप पटना की ओर से पेश नाटक के निर्देशक परवेज अख्तर हैं। पटकथा नंदकिशोर आचार्य की है। शनिवार 28 सितंबर को असमंजस बापू और लीला नंदलाल की का मंचन हुआ। 

जिले को गीला आपदाग्रस्त घोषित करने की मांग
जिले को गीला आपदाग्रस्त घोषित करने की मांग ग्रामीण कांग्रेस ने की है। मांग को लेकर 1 अक्टूबर को उपविभागीय कार्यालय सावनेर में निवेदन दिया जाएगा। जिला परिषद के पूर्व िवरोधी पक्ष नेता मनोहर कुंभारे ने पत्रकार वार्ता में कहा कि दो माह से हो रही बारिश से जिले में फसल को काफी नुकसान हुआ है। फसल सड़ने लगी है। बारिश से खेतों को नुकसान हुआ है। कुएं खिसके हैं। सोयाबीन, तुअर की फसल खराब हुई है। संतरा की फसल को नुकसान हुआ है। 6 व 18 सितंबर को हुई बारिश की प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार 392 हेक्टेयर कपास व 70.8 हेक्टेयर तुअर व 9 हेक्टेयर अन्य फसल को नुकसान हुआ है। किसान संकट में है। पत्रकार वार्ता में प्रकाश वसु, सतीश लेकुरवारे, अशोक भागवत, बाबासाहब बोंडे, शेषराव राहटे आदि उपस्थित थे। 

कमेंट करें
95Gf8
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।