दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर शहर से सटे बूटीबोरी रेंज में घूम रहा बाघ, तलाश में है 10 कर्मचारियों का दस्ता

March 7th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर । विदर्भ का फारेस्ट रेंज पिछल कुछ समय से बाघों की चहलकदमी के लिए मशहूर हो चला है। बूटीबोरी रेंज में बीते कई दिनों से एक बाघ के देखे जाने की जानकारी सामने आ रही थी। उसके द्वारा मवेशियों के शिकार किए जाने की भी जानकारियां सामने आने लगी थीं, लेकिन सोमवार रात को किसी वन कर्मचारी को यह बाघ दोबारा दिखाई दिया तो विभाग के अधिकारियों में खलबली मच गई। हाल ही में चिंचभुवन के पास नाले में तेंदुए और शावक की मौत विषबाधा से होने की पुष्टि होने के बाद विभाग को विषबाधा के संपर्क में न आ जाने का डर भी सता रहा है। इसे देखते हुए मंगलवार को आनन फानन में वन विभाग और कुछ पुलिस कर्मचारियों का तकरीबन 8 से 10 कर्मचारियों का दस्ता बाघ की खोज में घूम रहा है। 

पकड़ने के प्रयास जारी
माना जा रहा है कि यह बाघ उमरेड से आया होगा, लेकिन फिलहाल इसकी तस्वीर न होने से इसकी सही ढंग से पुष्टि नहीं हो पाई है। फिलहाल खबर लिखे जाने तक वन विभाग का दस्ता इस बाघ की खोज में मंगलवार देर रात तक इस क्षेत्र में गश्त लगाता रहा। पहले इसके डोंगरगांव के पास वारंगा - वाकेश्वर के आस पास देखे जाने की सूचना थी। इसके बाद इसके तुमड़ागांव के पास पहुंचने की सूचना मिलते ही वन विभाग का दस्ता भी वहां जा पहुंचा। फिलहाल उसको सफल रूप से पकड़ने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।  

गर्मियों में अक्सर बस्तियों में घुस आते हैं वन्यजीव
उल्लेखनीय है कि गर्मी के दिनों में अक्सर वन्यजीव पानी की तलाश में जंगल से बस्तियों की ओर रूख करते हैं लेकिन विदर्भ के फारेस्ट रेंज में बाघों को दूर-दूर तक एक जंगल से दूसरे जंगल में घूमते देखा रहा है। इसके पहले भी आदमखोर बाघिन ने वन विभाग के कर्मचारियों को खूब छकाया था। अब इस बाघ ने नींद उड़ा रखी है। वन्यजीवों के पानी और भोजन की व्यवस्था तो वनविभाग ने कर दी हैै लेकिन लगता नहीं कि वन्यजीवों के लिए यह पर्याप्त होगा।