comScore

टिप्पर ने मजदूरों से भरे मिनी मालवाहन को उड़ाया, दो की मौत, दस लोग घायल


डिजिटल डेस्क,नागपुर। मंगलवार की सुबह म्हालगी नगर चौक में भीषण सडक हादसा हुआ। टिप्पर ने मजदूरों से भरे मिनी माल वाहन को उड़ा दिया। हादसे में दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई,जबकि पिता-पुत्र समेत दस लोग घायल हो गए हैं। हादसे से कुछ समय के लिए अफरा तफरी मची रही और यातायात जाम हो गया। इस बीच सक्करदरा थाने में प्रकरण दर्ज कर आरोपी चालक को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार घटना में दो लोगों की मौत हुई है जबकि  बबलू बंजारे (24),राहुल बंजारे (25),जगदीश बंजारे (29) उसके पिता तेजा बंजारे ,भैरुलाल गौंड (25),हनिफ खान (50),गोपाल सिंह (30),विनोद  बंजारे (24),जगदीश छावड़ा (25) और अनिल गौंड़ (22) घायल हुए  हैं। यह  सभी लोग मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के अलग-अलग कस्बे के निवासी हैं। घायलों को मेडिकल अस्पताल में भर्ती किया गया है। उनमें से कुछ लोगों की हालत गंभीर ,मगर खतरे से बाहर होने का बताया जा रहा है।

मंगलवार की सुबह करीब साढ़े सात से आठ बजे के दौरान इन मजदूरों को मिनी मालवाहन में ठूंसकर वर्धा रोड स्थित परसोड़ी से बड़ा ताजबाग ले जाया जा रहा था। इस दौरान म्हालगी नगर चौक में विपरीत दिशा से आने वाले टिप्पर चालक ने मजदूरों के वाहन को टक्कर मार दी। इससे मजदूरों का वाहन सडक डिवाइडर से टकराकर पलट गया। हादसे की चपेट में आने से इसमें दो मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई। शवों की पहचान हो गई है,लेकिन कानूनी प्रक्रिया जारी होने से फिलहाल पुलिस ने मृतकों के नामों का खुलासा नहीं किया है,हालांकि मृतक और घायलों के परिजनों को हादसे की जानकारी दे दी गई है। इस बीच हादसे को लेकर कुछ समय तक अफरा तफरी और तनाव का माहौल बना रहा।

थाने की हद को लेकर फिर उलझी पुलिस 
हादसा म्हालगी नगर चौक में हुआ है। चौक के बाजू में ही हुड़केश्वर थाने की हद लगती है। बहरहाल हादसा कौन से थाने की हद में हुआ है कि इसे लेकर दोनों थाने की पुलिस आपस में उलझी रही। माहौल बिगड़ने का खतरा होने से घायलों को तत्काल मेडिकल ले जाया गया ,लेकिन कुछ समय के लिए इससे आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहा।

जा रहे थे सामान बेचने 
घायल जगदीश,गोपाल और बबलू ने बताया है कि वह प्लास्टिक के बर्तन बिक्री का काम करते हैं। इसके लिए उन्हें उनके मालिक पप्पू बंजारा दो सौ से तीन सौ रुपए मजदूरी देता है। पप्पू भी उनके ही गांव का रहने वाला है। जो हैदराबाद से प्लास्टिक का माल लाकर इन मजदूरों के हाथो से अलग अलग शहरों में ले जाकर बेचता है। नागपुर में यह लोग करीब दो महीने से रह रहे हैं। इसके लिए वर्धा रोड स्थित परसोड़ी में किराए का कमरा लिया गया  है जहां इन लोगों के खान पान की भी  व्यवस्था की गई है। 

कमेंट करें
MRfqX