पन्ना: अज्ञात वाहन ने मारी ठोकर, दो नग भैसों की हुई मौत दो पडिय़ा और एक पड़ा हुआ गंभीर रूप से घायल

July 25th, 2022

डिजिटल डेस्क, पन्ना। पन्ना शहर स्थित बाईपास मार्ग में शुक्रवार-शनिवार की देर रात्रि को अज्ञात तेज रफ्तार वाहन द्वारा पांच नग भैसवंशीय पशुओं को रांैद दिया गया। जिससे ०२ भैंसे जोकि ग्याभन थीं मौके पर मौत हो गई। वहीं तीन नग भैसवंशीय पशु जिसमें ०२ नग पडिय़ा तथा ०१ पड़ा दुर्घटनाग्रस्त होकर गंभीर रूप से घायल हो गये। पूरे मामले को लेकर प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार रानीबाग निवासी पशु पालक मूरत सिंह यादव की कुल १४ नग छोटी-बड़ी भैसों में ०५ नग छोटी-बड़ी भैसें रात्रि में चरने के लिए निकली थी। बाईपास रोड़ स्थित मॉडल बेसिक स्कूल के समीप रात्रि में लगभग ०२ बजे एक तेज रफतार वाहन जोकि ट्रक होना बताया जा रहा है ठोकर मार दी तथा दुर्घटना कारित करने बाद वाहन तेज रफ्तार से आगे निकल गया। वाहन की ठोकर से ०२ नग भैसों की मौके पर ही मौत हो गई तथा ०२ नग पडिय़ा और ०१ नग पड़ा बुरी तरह से घायल हो गया। रात्रि में हुई घटना का आभास स्कूल के वाचमेन को हो गया था। पशुपालक मूरत सिंह यादव को सुबह पता चला जिसके बाद पशुपालक मूरत सिंह यादव अपने परिवार के साथ मौके पर पहँुचे तथा घटना की जानकारी डायल १०० को दी गई। जिसके बाद मौके पर पहुंची डायल १०० की टीम द्वारा जांच कार्यवाही शुरू कर दी गई है। पशुपालक द्वारा अपनी ०२ घायल पडिय़ों और ०१ पड़े को मौके से उठवा ले जाकर घर में उपचार कार्य कराया जा रहा है। पशुपालक के रिश्तेदार देवेन्द्र यादव ने बताया कि जिस वाहन द्वारा ठोकर मारी थी उस वाहन का टूटा फूटा सामान मौके पर मिला है। जिसमें लीलेन्ड लिखा हुआ है। वाहन की सामने की टूटी लाईट भी मौके पर मिली है स्कूल के वाचमेन से घटना रात्रि में लगभग २ बजे होने की जानकारी पता लगी है तथा जो वाहन का टूटा फूटा सामान मिला है उससे दुर्घटना जिस वाहन से हुई वह ट्रक था ऐसा समझ आ रहा है। पशुपालक मूरत यादव को ०२ भैसों के मर जाने और ०३ नग पड़ा और पडिय़ा के घायल हो जाने से ०२ लाख रूपये से अधिक का नुकसान हुआ है। मध्यमवर्गीय गरीब पशुपालक परिवार घटना से बेहद दुखी हेै।
रात्रि में बाईपास मार्ग में बेलगाम होकर दौड़ते है रेत से भरे ट्रक और डम्फर 
पन्ना जिले की अजयगढ़ तहसील में बड़े पैमाने पर रेत का अवैध रूप से उत्खन्न लंबे अरसे से हो रहा है। जो कि बारिश के दौरान भी नही रूका है। बारिश से पूर्व जहां रेत माफिया केन नदी क्षेत्र से अवैध रूप से रेत निकाल रहे थे वहीं अब केन पानी आने के बाद निजी अथवा खाली क्षेत्र की शासकीय जमीन से बडे पैमाने पर रेत निकाली जाती है। अवैध रूप से उत्खन्न की यह रेत जहां पन्ना शहर में टैक्टरो में लाकर बेची जा रही है। वही रेत से भरे डम्फर एवं ट्रक अजयगढ से पन्ना पहँुचने के बाद बाईपास मार्ग होते हुए बाहर दूसरे जिलों के कस्बाई क्षेत्रों मे जा रहे है। रात्रि में बड़ी संख्या में बाईपास मार्ग से गुजरने वाले बेलगाम टैक्टर और डम्फर की वजह से खतरे की स्थिति बनी रहती है। बाईपास मार्ग जहां रात्रि में अंधेरा हो जाता है इस तरह रेत से भरे डम्फर तथा ट्रक खतरनाक साबित हो रहे है।अवैध रूप से रेत की उत्खन्न और परिवहन को लेकर राजस्व विभाग,पुलिस विभाग,परिवहन विभाग के जिम्मेदारों पर इसलिए आरोप लग रहे है कि उनके द्वारा धडल्ले से चले रहे इस अवैध कारोबार को रोकने के लिए कोई कदम नही उठाये गये है। आशंका जाहिर कि जारी है कि जिस वाहन द्वारा भैसवंशीय पशुओं को रौदा गया वह रेत परिवहन करने वाला वाहन था।