दैनिक भास्कर हिंदी: टोपे ने कहा - जब वैक्सीन ही नहीं तो 1 मई से कैसे शुरु होगा अभियान, वडेट्टीवार बोले - पहले करें रक्तदान

April 27th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे राज्य में 1 मई से 18 साल से 44 साल आयु वर्ग के लिए कोरोनारोधी टीकाकरण अभियान के शुरू होने को लेकर आशंकित हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में 1 मई को कोरोनारोधी टीका उपलब्ध नहीं होगा तो लोगों को टीका कैसे लगाया जा सकता है?
उन्होंने कहा कि देश के सभी राज्यों में एक मई से टीकाकरण शुरू होने को लेकर मेरे मन में प्रश्नचिन्ह है क्योंकि टीके की उपलब्धता बहुत बड़ी समस्या है।मंगलवार को टोपे ने राज्य के स्वास्थ्य विभाग और अन्न व औधषि प्रशासन विभाग (एफडीए) के अफसरों के साथ बैठक की। पत्रकारों से बातचीत में टोपे ने कहा कि कोरोना के टीके की उपलब्धता सबसे बड़ी चुनौती है। सरकार टीका खरीदने के लिए तैयार है।

5 करोड़ 71 लाख हैं 18 से 44 साल वाले

महाराष्ट्र में 18 से 44 आयु वर्ग के 5 करोड़ 71 लाख लोग हैं। इसके लिए राज्य को टीके की 12 करोड़ खुराक की जरूरत पड़ेगी। इसलिएस्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने सीरम संस्थान और भारत बायोटेक कंपनी को टीका खरीदने के लिए पत्र लिखा है। जिसमें कहा गया है कि राज्य को 12 करोड़ टीके की आवश्यकता है। लेकिन दोनों अभी तक कंपनियों ने पत्र का कोई जवाब नहीं दिया है। टोपे ने कहा कि केंद्र सरकार को टीके की दर को लेकर हस्तक्षेप करना चाहिए।

मुफ्त टीकाकरण पर मंत्रिमंडल में होगा फैसला

टोपे ने कहा कि राज्य में सभी लोगों को कोरोना का टीका मुफ्त में देना है अथवा केवल आर्थिक रूप कमजोर लोगों को मुफ्त में टीका उपलब्ध कराना है। इस बारे में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में अंतिम फैसला लिया जाएगा। टोपे ने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को कोरोना का टीका आयात करने का अधिकार दिया है। इसलिए राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में टीका आयात के लिए नीतिगत फैसला लिया जाएगा। 

एक करोड़ 50 लाख लोगों को लगा टीका

टोपे ने बताया राज्य में एक करोड़ 50 लाख 2 हजार 401 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार को सप्ताह भर का टीके का स्टॉक एक साथ मिल गया तो प्रतिदिन 8 लाख टीका लगाया जा सकता है। सोमवार को सबसे अधिक 5 लाख 34 हजार 722 टीके लगाए गए थे। 

रेमडेसिविर और ऑक्सीजन खरीदने वैश्विक टेंडर जारी 

टोपे ने कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना के मरीजों के उपचार के लिए उपयोगी पांच उत्पादों को खरीदने के लिए वैश्विक टेंडरजारी किया है। वैश्विक टेंडर के जरिए 10 लाख रेमडेशिविर इंजेक्शन की शीशी, 40 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन, 132 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट, 27 ऑक्सीजन आईएसओ कंटेनर, 25 हजार मीट्रिक टन लिक्विड ऑक्सीजनखरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि वैश्विक टेंडर के लिए तीन दिन का समय दिया गया है। इस  टेंडर की शर्तों को शिथिल करने का अधिकार मुख्य सचिव सीताराम कुंट की अध्यक्षता वाली उच्चाधिकार प्राप्त समिति को दिया गया है। कंपनियों से दर मिलने के बाद समिति को जल्द फैसला लेना होगा।  

ऑक्सीजन के इस्तेमाल के लिए एसओपी

टोपे ने कहा कि राज्य में प्रतिदिन 1615 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का इस्तेमाल हो रहा है। लेकिन मानकों के अनुसार कोरोना के मरीजों के लिए इतना अधिक इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। इसलिए ऑक्सीजन के उपयोग को लेकर मानक संचालक प्रक्रिया (एसओपी) सरकारी और निजी अस्पतालों के लिए जारी की गई है।हर अस्पताल में ऑक्सीजन का ऑडिट किया जाएगा।जरूरत से अधिक ऑक्सीजन का उपयोग करने वाले अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। टोपे ने कहा किनंदूरबार की तर्ज परहर अस्पताल में ऑक्सीजन नर्स नियुक्त किया जाएगा। इससे ऑक्सीजन की बचत हो सकेगी। टोपे ने कहा कि राज्य के हर जिले में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता के बारे में सरकार की वेबसाइट और सोशल मीडिया पर जानकारी दी जाएगी। टोपे ने कहा कि जिलाधिकारियों द्वारा हवा से ऑक्सीजन तैयार करने के लिए राज्य में 100 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए आदेश जारी किए जा चुके हैं। 

छह दिनों में 4 लाख 42 हजार कोरोना के मरीज हुए ठीक 

टोपे ने कहा कि सोमवार को 71 हजार 736 कोरोना के मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है। जबकि पिछले छह दिनों में राज्य भर में 4 लाख 42 हजार 466 कोरोना के मरीज ठीक हुए हैं। इससे कोरोना के मरीजों के ठीक होने की दर 81 से बढ़कर 83.5 प्रतिशत हुआ है। 

टीकाकरण पर स्थिति स्पष्ट करे सरकार- उपाध्ये

प्रदेश भाजपा ने राज्य सरकार से 1 मई से शुरू होने वाले टीकाकरण को लेकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है। प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्ये ने कहा कि राज्य में 1 मई से 18 साल से अधिक आयु वालों के टीकाकरण को लेकर जनता के मन में आशंका है। इसलिए सरकार को स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। उपाध्ये ने कहा कि सरकार को मनपा क्षेत्र और जिलेवार टीकाकरण केंद्रों की जानकारी घोषित करनी चाहिए। भीड़ न हो सके इसके लिए अधिक से अधिक टीकाकरण केंद्र बनाया जाना चाहिए। 
 

कोरोना टीका लगवाने से पहले करें रक्तदान

प्रदेश के आपदा प्रबंधन, मदद व पुनर्वसन मंत्री विजय वडेट्टीवार ने लोगों से पहले अपील की है कि वे कोरोना टीका लगवाने से पहले रक्तदान करें क्योंकि टीका लगवाने के बाद 60 दिनों तक रक्तदान नहीं किया जा सकता। मंगलवार को वडेट्टीवार ने कहा कि कोरोना प्रतिबंधात्मक टीकाकरण अभियान का महत्वपूर्ण चरण 1 मई से शुरू होगा। इससे 18 साल से अधिक आयु वाले लोग कोरोना का टीका लगवा सकेंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना टीका लगवाने के बाद 60 दिनों तक रक्तदान नहीं किया जा सकता है। इसलिए लोग पहले रक्तदान करें, उसके बाद कोरोना का टीका लगवाएं। मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण पिछले साल से रक्तदान में बड़े पैमाने पर कमी हुई है। इसलिए रक्त की कमी को देखते हुए लोग सामाजिक जिम्मेदारी निभाते हुए रक्तदान करें। इससे रक्त की जरूरत वाले मरीजों की जान बचाई जा सकेगी। वडेट्टीवार ने कहा कि अस्पतालों में कोरोना और गैर कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इसलिए राज्य में अधिक से अधिक रक्त की जरूरत पड़ रही है। कोरोना का टीका लगवाने के बाद 60 दिनों तक रक्तदाता रक्तदान नहीं कर पाएंगे। इसलिए लोग पहले रक्तदान करें और उसके बाद कोरोना का टीका लगवाने के लिए 28 अप्रैल के बाद केंद्र सरकार की अधिकृत वेबसाइट cowin.gov.in. पर ऑनलाइन पंजीयन करें। 
 

खबरें और भी हैं...