comScore

सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए वीरमाता जीजाबाई चिड़ियाघर के जानवर

सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए वीरमाता जीजाबाई चिड़ियाघर के जानवर

डिजिटल डेस्क, मुंबई। चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ मनुष्य के साथ-साथ जानवरों की जान भी खतरे में पड़ गई थी, इसलिए महानगर के चिड़ियाघर के सभी मांसाहारी जानवरों को बारिश और तेज हवाओं से बचाने के लिए सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। मनपा के एक अधिकारी ने बताया कि चिड़ियाघर के आपात प्रतिक्रिया दल को किसी भी अप्रिय स्थिति के लिए सतर्क रहने को कहा गया है। शहर में बारिश के कारण ‘वीरमाता जीजाबाई उद्यान’ में खराब मौसम और पेड़ों के गिरने से किसी भी नुकसान से जानवरों को बचाने के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं। यह चिड़ियाघर 50 एकड़ क्षेत्र में फैला है। बाघ, तेंदुए और लकड़बग्धा जैसे मांसाहारी जानवरों को सुरक्षित स्थानों पर रखा गया है। उन्होंने बताया कि ये स्थान पेड़ गिरने से होने वाले किसी भी नुकसान से सुरक्षित हैं। किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए पशु रखने वाले, माली, पेड़-काटने वाले और सुरक्षा कर्मचारी सहित 20 सदस्यीय चिड़ियाघर का आपात प्रतिक्रिया दल तैनात है। जानवरों के बाड़ों पर भी परिसर में लगे सीसीटीवी से नजर रखी जा रही है।

लोगों की मदद करें राकांपा कार्यकर्ता

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा है कि वे चक्रवात प्रभावितों की मदद के लिए आगे आएं। पवार बुझवार को कहा कि चक्रवात से सार्वजनिक और निजी संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचा है और राकांपा कार्यकर्ताओं से आग्रह है कि वे आपदा से प्रभावित लोगों की मदद करें। इस बीच, बारामती से राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने ट्विटर के माध्यम से आग्रह किया कि तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोग घरों के अंदर रहें और राज्य सरकार के निर्देशों का पालन करें। 

 
 

कमेंट करें
Hkvhj