दैनिक भास्कर हिंदी: रेलवे स्टेशन पर जमीन पर रख बेचे जा रहे फल, नियमों की उड़ रही धज्जियां

April 2nd, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। ग्रीष्म में फलों की मांग बढ़ जाती है। स्टेशनों पर रेलवे से अधिकृत वेंडर इसे प्लेटफार्म पर महंगे दामों में बेचते भी हैं। रेलवे बोर्ड के नियम के अनुसार फलों को जमीन से ऊपर रख कर बेचना चाहिए। ताकि फल साफ-सुथरा रहा, लेकिन नागपुर रेलवे स्टेशन पर इन दिनों प्लेटफार्म पर ही संतरा, केला आदि फल बेचे जा रहे हैं, जिसका असर यात्रियों की सेहत पर पड़ते दिख रहा है। हालांकि इस पर वाणिज्य विभाग की नजर नहीं है।

जमीन पर रख दिए जाते हैं फल
नागपुर रेलवे स्टेशन पर कुल 8 प्लेटफार्म हैं। रोजाना एक सौ से अधिक गाड़ियों के साथ 30 हजार के करीब लोग आवागमन करते हैं। उनकी सुविधा के लिए यहां खान-पान स्टॉल लगाये रखे हैं। जिसे रेलवे के माध्यम से निजी ठेकेदार चलाते हैं। इसी तरह फल बेचने के लिए भी रेलवे टेंडर निकालती है। ऐसे में संतरा, केला आदि फल भी स्टेशन पर बेचे जाते हैं, लेकिन इसे बेचने के लिए सावधानियां बरतनी जरूरी है। प्लेटफार्म पर लगातार यात्रियों की चहल-पहल रहने से गंदगी से इनकार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में रेलवे बोर्ड के नियमानुसार फलों को एक स्टैण्ड पर रखते हुए बेचना जरूरी है। ताकि फल पर किसी भी प्रकार की गंदगी न लगे, लेकिन इन दिनों स्टेशन पर नजर घुमाएं तो विक्रेता प्लेटफार्म पर ही  जमीन पर रखते हुए फलों की बिक्री कर रहे हैं। हैरत की बात यह है, कि नियमों के खिलाफ रहने के बाद भी कोई इसकी सुध नहीं ली जा रही है।   

भोजन सस्ता, फल महंगे
गर्मियों की शुरूआत होते ही फलों की मांग बढ़ जाती है। सफर के दौरान मीठे फल जहां भूख मिटाते हैं, वही सेहत के लिए भी फायदेमंद रहते हैं। ऐसे में स्टेशन पर भी फल बेचे जाते हैं। जिसे यात्री हाथों हाथ खरीद लेते हैं, लेकिन इसे खरीदते वक्त यात्रियों की जेब ढीली जरूर होती है। क्योंकि भले ही यहां 55 रुपए में खाना मिल जाता है, लेकिन बाहर की तुलना में फल खरीदने के लिए तीन गुना ज्यादा पैसे देने पड़ते हैं। अधिकारियों को इस बात का पता भी है, लेकिन रेलवे केवल टेंडर व मुनाफे पर नजर रखती है। महंगे फल बेचने पर  कोई आपत्ति नहीं है। 

खबरें और भी हैं...