comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मानसून में देरी की वजह बन सकता है निसर्ग चक्रवात, विदर्भ में बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना

मानसून में देरी की वजह बन सकता है निसर्ग चक्रवात, विदर्भ में बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना

डिजिटल डेस्क, नागपुर। निसर्ग चक्रवात का असर नागपुर में दिखने लगा है और रात में बारिश के साथ ही तेज हवाओं के चलने की आशंका है। नागपुर की अपेक्षा चक्रवात का अधिक असर पश्चिम विदर्भ में देखने को मिलेगा। मौसम विभाग का अनुमान है कि चक्रवात की वजह से मानसून में देरी हो सकती है। हालांकि यदि मानसून को समय मिल गया तो वह समय पर भी पहुंच सकता है। उपमहानिदेशक मौसम विभाग एम.एल.साहू के मुताबिक चक्रवात को समुंदर से बल मिलता है और मानसून को भी समुंदर से बल मिलता है। इन दोनों के समय के पास-पास होने से मानसून में देरी की आशंका रहती है लेकिन मानसून का प्रभाव कमजोर या अधिकता का संकट नहीं रहता है।

एक तरफ जहां अरब सागर से उठे चक्रवर्ती तूफान निसर्ग ने राज्य के तटीय इलाकों में कहर बरपाया, वहीं उपराजधानी में बुधवार सुबह से ही बारिश होने लगी। जिसने मौसम ठंडा कर दिया, गर्मी से लगातार राहत मिल रही है। गुरुवार को तेज हवाओं के साथ तेज बारिश की संभावना है। बुधवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे और कुछ देर के लिए सूर्यदेव निकने, लेकिन बादलों की वजह से फिर छुप गए।

सुबह के बाद शाम को भी झमाझम बारिश हुई जिसने मौसम सुहाना बना दिया। पारा भी 32 पर बना हुआ है, सुबह में आसमान में बादल की वजह से शाम जैसे मौसम लग रहा था। बुधवार को 22.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

मंगलवार को अधिकतम तापमान 32.7 डिग्री सेल्सियस था। न्यूनतम तापमान 22.4 डिग्री सेल्सियस था। बुधवार को न्यूनतम तापमान में 1.1 डिग्री सेल्सियस की गिरावट होने की वजह से न्यूनतम तापमान 21.3 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया जो औसत तापमान से 7.4 डिग्री सेल्सियस कम है। अधिकतम और न्यूनतम दोनों ही तापमान में औसत 7 डिग्री से अधिक कम है। जिसकी वजह से गर्मी से अच्छी राहत मिल रही है।

बुधवार को बारिश की संभावना होने के साथ ही गुरुवार को अच्छी बारिश की संभावना है जो अगले कुछ दिनों से गर्मी से बड़ी राहत देख सकता है। बुधवार के बाद गुरुवार को उपराजधानी के साथ ही विदर्भ में अच्छी बारिश की संभावना है। बुधवार को 22.8 डिग्री सेल्सियस बारिश दर्ज की गई है। इसके साथ ही अकोला, अमरावती, चंद्रपुर, ब्रह्मपुरी, गोंदिया, वर्धा और यवतमाल में भी अच्छी बारिश हुई है।

विदर्भ में बारिश

विदर्भ में कुछ हिस्सों में रविवार शाम झमाझम वर्षा होने की जानकारी मिली है। यवतमाल, वर्धा, चंद्रपुर, गड़चिरोली, भंडारा तथा गोंदिया में शाम ढलते ही आसमान पर काली घटाओं ने डेरा जमाया। देखते ही देखते जोरदार वर्षा शुरू हो गई। चंद्रपुर जिले में सुबह से ही आसमान बादलों से पटा हुआ था। कहीं-कहीं बूंदाबांदी भी हुई। शाम होते-होते जोरदार बारिश शुरू हो गई। मौसम में आए बदलाव के कारण गर्मी और उमस से परेशान नागरिकों को कुछ हद तक राहत मिली। 

धरती से टकराया चक्रवर्ती तूफान निसर्ग

अरब सागर से उठा चक्रवर्ती तूफान निसर्ग अलीबाग के पास बुधवार दोपहर 12:30 बजे के करीब धरती से टकराया। पहले आशंका थी कि मुंबई में चक्रवात के दौरान 100 से 120 किलोमीटर की तेजी गति से हवाएं चलेंगी, लेकिन जोर कम होने के चलते महानगर में 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ही हवाएं चलीं। जानकारों के मुताबिक अगर निसर्ग ने दिशा नहीं बदली होती तो मुंबई में बड़ा नुकसान हो सकता था। मुंबई महानगर पालिका द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में पेड़ गिरने की 196 घटनाएं सामने आई। कई पेड़ वाहनों पर गिरे। इसके अलावा 9 घरों की दीवारें गिरी है। शॉर्ट सर्किट की 39 घटनाएं हुई। लेकिन इन घटनाओं में कोई हताहत नहीं हुआ। शाम 5:30 बजे तक कोलाबा में 46 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी जबकि सांताक्रुज में करीब 23 मिलीमीटर बारिश हुई। चक्रवात के मद्देनजर मुंबई महानगर पालिका ने निचले इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए 35 सुरक्षित ठिकाने बनाए थे जहां 18887 लोगों के रहने और खाने की व्यवस्था की गई। जिन लोगों में कोरोना के लक्षण थे उनके लिए अलग रहने की व्यवस्था की गई थी। चक्रवात मुंबई से उत्तर की ओर नासिक और अहमदनगर जिलों की ओर बढ़ गया जिसके चलते मुंबईकरो ने राहत की सांस ली है। हालांकि मुंबई में गुरुवार सुबह भी तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश का अनुमान है।

नुकसान का लिया जा रहा जायजा-थोरात

चक्रवात में सबसे सबसे ज्यादा नुकसान रायगढ़ जिले के मुरुड और श्रीवर्धन  में हुआ है। नुकसान का पंचनामा किया जा रहा है और जनजीवन सामान्य बनाने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है। राज्य के  राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने बुधवार को यह जानकारी दी। थोरात ने बताया कि चक्रवात के चलते कई जगहों पर पेड़ और बिजली के खंभे गिरे है जिसके चलते बिजली आपूर्ति पर असर पड़ा है। प्रशासन स्थिति पूर्ववत करने के लिए जी-जान से कोशिश कर रहा है। थोरात ने कहा कि चक्रवात की दिशा को देखते हुए पुणे नासिक और अहमदनगर जिला प्रशासन को सतर्क कर दिया गया है। लोगों से भी प्रशासन के सुझाव के मुताबिक एहतियात बरतने को कहा गया है।  

कमेंट करें
mqY7F
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।