दैनिक भास्कर हिंदी: जानलेवा बन गई सड़क, परेशान जनता ने रख दिया नाम मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस मार्ग

July 24th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। बारिश से रास्तों पर पड़े गड्ढे और सड़कों से उड़ रही धूल के कणों ने परेशानी बढ़ा दी है। जानलेवा भी साबित हो रहे हैं। आए दिन दुर्घटनाओं के कारण बन रहे हैं। दावा है कि इस मानसून में ही अब तक गड्ढों के कारण शहर में 7 लोगों की मौतें हो चुकी है। कई लोगों की आंखों को नुकसान पहुंचा है। इससे त्रस्त होकर नागरिकों ने सोमवार को गड्ढे वाली सड़क का मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस गड्ढा मार्ग नामकरण किया। आषाढ़ी एकादशी दिवस के अवसर पर नागपुर में यह नामकरण किया गया। राष्ट्रवादी कांग्रेस की महिला अध्यक्ष अलकाताई कांबले ने गड्ढों का पूजन कर नामकरण के लिए श्लोक मंत्रोच्चार किया।

शहर में मेट्रो रेल प्रोजेक्ट और सीमेंट सड़कों का व्यापक स्तर पर काम शुरू है। यातायात की समस्या जगह-जगह बनी है। इस समस्या से लोग रोज दो-चार हो रहे थे कि अब शहर भर में गड्ढों ने वाहन चालकों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। नागपुर के डामरी रास्ते पूरी तरह खराब हो चुके हैं। एयरपोर्ट से लेकर आटोमोटिव चौक और हिंगना नाका से लेकर पारडी-कलमना तक सड़कों पर गड्ढे ही गड्ढे दिख रहे हैं। खासकर दो-पहिया वाहन चालकों के लिए यह सर्कस से कम नहीं है। परिवार को ले जाते समय जान हथेली पर लेकर चलना पड़ता है। किस समय हादसा हो जाए, कोई गारन्टी नहीं। हादसे आए दिन हो भी रहे हैं। 

शहर की सड़कों पर वाहनों का भिड़ना या वाहन से फिसलना और गिरना अब आम बात हो गई है। कई गंभीर मामले भी सामने आए हैं। विविध स्थानों पर 7 लोगों की मौत होने का दावा किया गया है। धूल के कणों से अनेक लोगों की आंखों को नुकसान पहुंचा है। इससे गुस्साए नागरिक अब अलग-अलग तरीका अपनाकर रोष व्यक्त कर रहे हैं।

सोमवार को राकांपा महिला विभाग द्वारा सड़क का नामकरण कर प्रदर्शन किया गया। शहर की इस दशा के लिए उन्होंने सत्ताधारी भाजपा को जिम्मेदार बताते हुए नागपुर का नक्शा बिगाड़ने का आरोप लगाया। इस अवसर पर शुभदा अजनकर, सुनन्दा पुणेकर, शोभा भगत, सुशीला ढाकणे, शांता हाडके, वर्षा रामटेके, मीनाक्षी बालबुधे, स्वेता शंभरकर, ज्योत्सना सिंह, विजया लालझरे, रेखा हाडके आदि उपस्थित थीं।