comScore

पत्नी को अधमरा कर लटकाया फांसी पर -आरोपियों को आजीवन कारावास

पत्नी को अधमरा कर लटकाया फांसी पर -आरोपियों को आजीवन कारावास

डिजिटल डेस्क शहडोल । हत्या के तीन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। अभियोजन के अनुसार वर्ष 2002 में मृतक निशा की शादी बुढ़ार निवासी निवासी दिनेश गुप्ता से हुई थी। आरोपी दिनेश गुप्ता द्वारा 26 अक्टूबर  2013 को थाना बुढार में रिपोर्ट लिखाई कि 25 अक्टूबर को खाना खाकर सभी लोग लेट गए थे। रात करीब 3.30 बजे उसकी लड़की नंदिनी गुप्ता उसे  उठाई और बोली कि मम्मी फांसी में लटक रही है। थाना बुढ़ार में इस आशय की सूचना पर दिनेश गुप्ता के बताए अनुसार मर्ग कायम किय गया। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर साक्ष्यों के गवाह लिए। उसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। 
भाइयों ने की थी मदद
पोस्टमार्टम करने के उपरांत डॉक्टरों की टीम ने अपने प्रतिवेदन में बताया कि मृतक को सख्त एवं भोतले हथियार से उसके सिर में वार करके मृत्यु के पूर्व चोट पहुंचाया गया था। दम घुटने के कारण उसकी मृत्यु हुई है। उसके उपरांत पुलिस ने विवेचना प्रारंभ की। विवेचना के दौरान यह बात सामने आई कि आरोपी पति दिनेश गुप्ता ने पहले लकड़ी की मोंगरी से मृतिका के सर पर तेज वार किया तथा अधमरी हालत में पहुंचाने के बाद उसे पूर्ण रूप से खत्म करने के इरादे से अपने भाइयों के साथ मिलकर फांसी के फंदे से लटका दिया। जिस पर उसके दोनों भाई महेश एवं सुरेश ने मदद की थी। जिसके पश्चात पुलिस पुलिस ने प्रकरण पंजीकृत चालान प्रस्तुत किया। अपर सत्र बुढार के विद्वान न्यायाधीश ने अभिलेख पर आए साक्ष्य एवं गवाहों के परीक्षण एवं विचारण उपरांत आरोपी दिनेश, महेश एवं रमेश को धारा 302, 201 में दोषी पाते हुए अंतिम सांस तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई।
 

कमेंट करें
t2Kvz