दैनिक भास्कर हिंदी: मुंबई-नागपुर एक्सप्रेस वे जैसी तेजी से नहीं हो रहा मुंबई-गोवा महामार्ग का काम

February 23rd, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुंबई-गोवा महामार्ग की तुलना में मुंबई-नागपुर समृध्दि महामार्ग का काम काफी तेजी से हो रहा है। यह भेदभावपूर्ण है। इसलिए केंद्र सरकार, भारतीय महामार्ग प्राधिकरण व राज्य सरकार सहित ठेकेदारों को मुंबई-गोवा महामार्ग के एनएच 66 के चौड़ीकरण का काम व गड्ढों को भरने का कार्य शीघ्रता से पूरा करने का निर्देश दिया जाए। इस तरह की मांग को लेकर पेशे से वकील ओवैसी पेचकर ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। हाईकोर्ट ने तीन मार्च को इस याचिका पर सुनवाई रखी है। 

याचिका में दावा किया गया है कि महाराष्ट्र से गुजरनेवाले खासतौर से सिधुदुर्ग होकर जाने वाले मुंबई-गोवा महामार्ग का काम काफी समय से लंबित है। जबकि यहां के लोग सबसे ज्यादा इस महामार्ग का इस्तेमाल करते हैं। इस महामार्ग पर काफी गड्ढे भी देखने को मिलते हैं। जिन्हें भरने को लेकर भी ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। जिसके चलते काफी सड़क हादसे होते हैं और लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। जबकि अच्छी सड़के पाना नागरिकों का अधिकार है और इसे उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है।

याचिका में कहा गया है कि मुंबई-नागपुर समृद्धि महामार्ग का काम मुंबई- गोवा महामार्ग की तुलना में काफी देरी से शुरु हुआ है, लेकिन उसका काफी तेजी से पूरा किया जा रहा है। शिर्डी से नागपुर चरण का काम जल्द ही पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इस तरह से देखा जाए तो यह भेदभावपूर्ण है। मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता की खंडपीठ ने तीन मार्च 2021 को इस याचिका पर सुनवाई रखी है। 

खबरें और भी हैं...