अमरावती: अवैध उत्खनन रोकने की मांग को लेकर टॉवर पर चढ़ा युवक

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, अमरावती . सोमवार की दोपहर करीब 2.5 बजे अमरावती के जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में उस समय हड़कंप मच गया जब मंगरुल दस्तगीर ग्राम निवासी अतुल भुजाड़े नामक युवक कार्यालय में लगे सिग्नल टाॅवर पर चढ़कर वीरूगिरी शुरू कर दी। युवक साथ में नायलॉन की रस्सी से फंदा बनाते हुए आत्महत्या की कोशिश करने लगा। युवक को रोकने के लिए पुलिस कर्मचारियों को बड़ी मशक्कत करनी पड़ी। करीब डेढ घंटे आला अधिकारियों द्वारा समझाने के बाद वह टाॅवर से उतरने के लिए राजी हुआ। अतुल भुजाडे लंबे समय से नदियों में हो रहे रेत के अवैध खनन को लेकर प्रशासन से शिकायतें करते आ रहा हैं, लेकिन पुलिस व राजस्व विभाग द्वारा इस संदर्भ में कोई कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए वह आक्रोश में आ गया। उसने शिकायत में कहा कि मंगरुल दस्तगीर क्षेत्र में बड़े स्तर पर अवैध रेत की ढुलाई हो रही है। राज्य सरकार के आदेशानुसार शाम 7 बजे के बाद नदी से रेत नहीं निकाली जा सकती है। इसके बावजूद यहां रोजाना सैकड़ों ब्रास रेत निकाली जा रही है। प्रशासन इसको लेकर किसी भी तरह से गंभीर नहीं है। नदियों के अवैध खनन के कारण किसानों के साथ ही पर्यावरण को नुकसान हो रहा है। साथ ही राज्य सरकार को भी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। 

युवक द्वारा रेत माफियाओं के विरुध्द किए गए इस फिल्मी स्टाईल आंदोलन को देखते हुए तुरंत ही मनपा अग्निशमन विभाग को मौके पर बुलाया गया। स्वयं खनीकर्म विभाग के अधिकारियों ने टाॅवर के नीचे खड़े होकर अमोल भुजाडे से नीचे उतरने की अपील की। रेतमाफियाओं के विरुध्द तत्काल प्रभाव से कार्रवाई का आश्वासन मिलने के बाद अमोल भुजाडे ने अपना आंदोलन खत्म किया। टाॅवर से उतरने के पश्चात उनके स्वास्थ्य की जांच कर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई करते हुए फिलहाल उन्हें भविष्य में ऐसा न करने की हिदायत देकर छोड़ दिया गया है। 

आंदोलन का अधिकार, लेकिन नियमों का पालन जरूरी 

इब्राहीम खान, खनिकर्म अधिकारी के मुताबिक किसी भी व्यक्ति को अपनी मांग को लेकर आंदोलन करने का पूरा अधिकार प्राप्त है। किंतु यह आंदोलन नियमों के दायरे में रहकर किया जाना चाहिए। खनिकर्म विभाग के अवैध रेत ढुलाई को लेकर अपने स्तर पर लगातार कार्रवाई कर रहा है।