comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

IPL-13: डबल हेडर के दूसरे मैच में आज मुंबई-दिल्ली में भिड़ंत, दोनों टीमों के बीच टॉप पोजिशन की जंग


हाईलाइट

  • IPL-13 के चौथे डबल हेडर का दूसरा मैच आज मुंबई और दिल्ली के बीच अबू धाबी में खेला जाएगा
  • मैच का प्रसारण भारतीय समयानुसार शाम 7:30 बजे से, टॉस 7 बजे होगा

डिजिटल डेस्क, अबू धाबी। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13वें सीजन के चौथे डबल हेडर (एक दिन में 2 मैच) का दूसरा और लीग का 27वां मैच आज मुंबई इंडियंस (MI) और दिल्ली कैपिटल्स (DC) के बीच अबू धाबी के शेख जाएद स्टेडियम में खेला जाएगा। मैच का प्रसारण भारतीय समयानुसार शाम 7:30 बजे से होगा। दोनों टीमों का लीग स्टेज में यह 7वां मैच होगा। दिल्ली अपने पिछले 6 मैचों में से 5 जीती और 1 हारी है। वहीं मुंबई अपने पिछले 6 मैचों में से 4 मैच जीती और 2 में उसे हार का सामना करना पड़ा है। प्वाइंट्स टेबल की बात करें तो दिल्ली सबसे ज्यादा 10 अकों के साथ टॉप पर है। मु्ंबई 8 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर है। अब दोनों के बीच पॉइंट्स टेबल में टॉप पोजिशन के लिए टक्कर होगी। 

बता दें कि, दोनों टीमें संतुलित हैं। बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों जगह दोनों टीमें अच्छी हैं। मैच के दिन जो टीम बड़े मैच के दबाव को झेल पाने में सक्षम साबित होगी वो जीत हासिल करेगी। दिल्ली के बल्लेबाजों को पिछले मैच को भूल एक नई शुरुआत करनी होगी। राजस्थान के खिलाफ पृथ्वी शॉ, शिखर धवन, कप्तान श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत का बल्ला नहीं चला था। धवन अभी तक कोई बड़ी पारी नहीं खेल पाए हैं लेकिन शॉ, पंत और अय्यर फॉर्म में हैं। इन तीनों में से अगर कोई भी चल गया तो दिल्ली के लिए बड़ा स्कोर करना आसान होगा। 

लेकिन जसप्रीत बुमराह और ट्रेंट बोल्ट जैसे दिग्गजों के सामने इन बल्लेबाजों के लिए यह आसान नहीं होगा। इन दोनों के पास अनुभव है जो युवा जोश पर भारी पड़ सकता है। इसलिए दिल्ली के शीर्ष क्रम को इस मैच में अपने अनुभवी बल्लेबाज धवन से रन की ज्यादा उम्मीद होगा ताकि वह टीम को संभाल सकें और इन युवाओं को साथ लेकर चल मुंबई के अनुभवी गेंदबाजों को सफल होने से रोक सकें।

इस सीजन में दिल्ली को बल्लेबाजी में काफी गहराई मिली है जो उसे मार्कस स्टोयनिस और शिमरन हेटमायेर ने दी है। राजस्थान के खिलाफ जब टॉप ऑर्डर फेल हो गया था तब इन दोनों ने ही टीम को 180 के पार पहुंचाया था। स्टोयनिस खासकर काफी खतरनाक फॉर्म में हैं। वो टीम को संभाल भी रहे हैं और तेजी से रन बनाने की काबिलियत भी रखते हैं। डेथ ओवरों में उन्हें पोलार्ड और बुमराह की जोड़ी का सामना करना होगा। यह स्टोयनिस के लिए परीक्षा होगी जिसमें वो पास होते हैं या फेल वो मैच में पता चलेगा।

मुंबई के पास बुमराह और बोल्ट हैं तो दिल्ली के पास कैगिसो रबादा और एनरिक नॉर्खिया। इन दोनों की जोड़ी ने दिल्ली की गेंदबाजी को मजबूती दी है। इन दोनों के सामने रोहित शर्मा जैसा विश्व स्तरीय बल्लेबाज होगा तो क्विंटन डी कॉक का सामना भी इन्हें करना होगा। यह दोनों बल्लेबाज फॉर्म में हैं और दिल्ली अगर इन दोनों को जल्दी आउट कर लेती है तो मुंबई पर दबाव बढ़ जाएगा।

टीम के पास हालंकि फायर पावर है और शुरूआती झटकों से उबराने के लिए उसके पास सूर्यकुमार यादव का अनुभव और ईशान किशन का जोश है। दोनों ने साबित किया है कि वह टीम की नैया पार लगा सकते हैं। रविचंद्रन अश्विन का रोल इस मैच में ज्यादा अहम हो जाएगा। वो जानते हैं कि तूफानी बल्लेबाजों को कैसे रोका जाता है। देखा गया है कि अय्यर शुरूआती ओवरों में ही अश्विन को लगा देते हैं और अश्विन विकेट भी निकाल लेते हैं। रबादा और एनरिक के साथ अश्विन के जिम्मे मुंबई के इन चार बल्लेबाजों को सस्ते में समेटने की जिम्मेदारी होगी।

लेकिन निचले क्रम में मुंबई के पास हार्दिक पांड्या, उनके भाई कूणाल पांड्या और पोलार्ड हैं जो किसी भी मजबूत गेंदबाजी आक्रमण को धराशायी कर सकते हैं। एक लिहाज से देखा जाए तो दोनों टीमों के बीच यही सबसे बड़ा अंतर है। दिल्ली के पास निचले क्रम में स्टोयनिस और हेटमायेर तो हैं लेकिन पोलार्ड और हार्दिक के मुकाबले वो एक कदम पीछे ही हैं। यहां दिल्ली को परेशानी हो सकती है। उसके लिए इन दोनों को रोकना बड़ी चुनौती होगी।

टीमें :

दिल्ली कैपिटल्स (DC) : श्रेयस अय्यर (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, एलेक्स कैरी, जेसन रॉय, पृथ्वी शॉ, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), शिखर धवन, शिमरन हेटमायेर, अक्षर पटेल, क्रिस वोक्स, ललित यादव, मार्कस स्टोयनिस, कीमो पॉल, आवेश खान, हर्षल पटेल, ईशांत शर्मा, कैगिसो रबाडा, मोहित शर्मा, रविचंद्रन अश्विन, संदीप लामिछाने, एनरिक नॉर्खिया, तुषार देशपांडे।

मुंबई इंडियंस (MI) : रोहित शर्मा (कप्तान), आदित्य तारे (विकेटकीपर), अनमोलप्रीत सिंह, अनुकूल रॉय, क्रिस लिन, धवल कुलकर्णी, दिग्विजय देशमुख, हार्दिक पांड्या, ईशान किशन, जेम्स पैटिनसन, जसप्रीत बुमराह, जयंत यादव, कीरन पोलार्ड, क्रूणाल पांड्या, मिशेल मैक्लेंघन, मोहसिन खान, नाथन कल्टर नाइल, प्रिंस बलवंत राय, क्विंटन डी कॉक (विकेटकीपर), राहुल चहर, सौरभ तिवारी, शेरफाने रदरफोर्ड, सूर्यकुमार यादव, ट्रेंट बोल्ट।

कमेंट करें
4TYha
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।