comScore

क्रिकेट: महेंद्र सिंह धोनी की टीम इंडिया के ट्रेनिंग कैंप में होगी वापसी? क्या है दिग्गज खिलाड़ियों और एक्सपर्ट्स की राय

क्रिकेट: महेंद्र सिंह धोनी की टीम इंडिया के ट्रेनिंग कैंप में होगी वापसी? क्या है दिग्गज खिलाड़ियों और एक्सपर्ट्स की राय

हाईलाइट

  • BCCI अगले महिने से अपने टॉप क्रिकेटर्स के लिए छह सप्ताह के ट्रेनिंग कैंप का आयोजन करने जा रहा है
  • ऐसे में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को ट्रेनिंग कैंप में शामिल किया जा सकता है

डिजिटल डेस्क। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) अगले महिने से अपने टॉप क्रिकेटर्स के लिए छह सप्ताह के ट्रेनिंग कैंप का आयोजन करने जा रहा है। इस खबर के बाद से ही भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की वापसी को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। सवाल उठाए जा रहे हैं कि धोनी इस ट्रेनिंग कैंप में शामिल होंगे या नहीं। क्योंकि, BCCI ने इस साल जारी की गई खिलाड़ियों की सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट लिस्ट में धोनी को शामिल नहीं किया है। बता दें कि, ट्रेनिंग कैंप में सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट लिस्ट के बाहर के भी कई खिलाड़ियों को शामिल किया जाता है। ऐसे में सभी को धोनी की वापसी की उम्मीद है। हालांकि धोनी की वापसी के सवाल पर क्रिकेट एक्सपर्ट ने अलग-अलग राय दी है। 

धोनी के ट्रेनिंग कैंप में होने से युवा खिलाड़ियों को काफी फायदा होगा: प्रसाद
सिलेक्शन कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने कहा, मुझे नहीं पता कि टी-20 वर्ल्ड कप हो रहा है या नहीं। अगर यह हो रहा है और आप ट्रेनिंग कैंप को टूर्नामेंट के पूर्व तैयारी के तौर देख हैं। ऐसे में धोनी को निश्चित रूप से ट्रेनिंग कैंप में शामिल किया जाना चाहिए। लेकिन ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए धोनी को लेकर कुछ कहा नहीं जा सकता। उन्होंने कहा, अगर यह ट्रेनिंग कैंप किसी द्विपक्षीय सीरीज के लिए आयोजित किया जाता है, तो फिर आपके पास लोकेश राहुल, ऋषभ पंत और संजू सैमसन जैसे खिलाड़ी पहले से ही मौजूद हैं। प्रसाद ने यह भी कहा कि धोनी के ट्रेनिंग कैंप में होने से युवा विकेटकीपरों को उनके अनुभव से काफी फायदा होगा।

धोनी को ट्रेनिंग कैंप में शामिल करना, चौंकाने वाला फैसला होगा: सीनियर ऑफिसर
सेलेक्शन कमेटी के एक मौजूदा सीनियर ऑफिसर ने कहा कि, धोनी एक साल से क्रिकेट से दूर हैं। आपको उनकी फिटनेस के बारे में भी कुछ पता नहीं है। वह सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट लिस्ट से भी बाहर हैं। उन्हें पिछले साल वेस्टइंडीज के खिलाफ हुई टी-20 सीरीज के लिए भी टीम में शामिल नहीं किया गया था। ऐसे में अगर उन्हें ट्रेनिंग कैंप में शामिल किया जाता है, तो यह एक चौंकाने वाला फैसला होगा। 

हरभजन ने कहा, ट्रेनिंग कैंप में युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाना चाहिए
वहीं भारतीय टीम के पूर्व स्पिनर हरभजन ने कहा कि, ट्रेनिंग कैंप में सूर्य कुमार यादव और यशस्वी जायसवाल जैसे युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाना चाहिए। इस कैंप में अंडर-19 टीम के लेग स्पिनर रवि बिश्नोई और यशस्वी जायसवाल जैसे युवा खिलाड़ियों को भी शामिल किया जाना चाहिए। ताकि युवा खिलाड़ियों को सीनियर खिलाड़ियों के साथ बातचीत करने का उनसे सिखने का मौका मिले। हरभजन ने कहा, टी-20 टीम के लिए सूर्यकुमार से बड़ा दावेदार कोई नहीं है।

नेहरा ने कहा, मैं मुख्य चयनकर्ता होता, तो धोनी को टीम में जरूर शामिल करता
तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने कहा कि, यदि मैं मुख्य चयनकर्ता होता, तो धोनी को टीम में जरूर शामिल करता। हालांकि, सवाल यह भी है कि धोनी खेलना चाहते भी हैं या नहीं। सबसे बड़ी बात यही मायने रखती है कि धोनी चाहते क्या हैं। धोनी की कप्तानी में ही भारत ने 2011 में वनडे वर्ल्ड कप जीता था। तब नेहरा भी उस टीम में शामिल थे। 

दीप दासगुप्ता ने कहा, धोनी जैसे खिलाड़ियों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता
भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर दीप दासगुप्ता ने कहा कि, चयनकर्ताओं को इस बारे में धोनी के साथ बातचीत करना चाहिए। ट्रेनिंग कैंप कई हफ्ते तक चलेगा और धोनी इसका हिस्सा होंगे, तो दूसरे युवा विकेटकीपरों को उनसे काफी कुछ सीखने का मौका मिलेगा। यदि धोनी कैंप में किसी कारण से शामिल नहीं हुए, तब भी मैं उनकी दावेदारी से मना नहीं करूंगा। दीप दासगुप्ता ने कहा कि, यदि धोनी IPL में 4 नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 500 रन बनाते हैं, तो आप उन्हें नजरअंदाज नहीं कर सकते।

कमेंट करें
3IS5z