comScore

मजाकिया अंदाज में धोनी बोले - रिटायर होने से पहले नहीं बताउंगा CSK का सक्सेस मंत्र


हाईलाइट

  • धोनी की कप्तानी में चेन्नई 3 बार रह चुकी है चैंपियन
  • चेन्नई IPL में अब तक 9 बार प्लेऑफ में पहुंची है, सात बार फाइनल खेला
  • IPL के इस सीजन में भी चेन्नई प्लेऑफ में पहुंचने वाली पहली टीम

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2008 से लेकर 2019 तक चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) इकलौती ऐसी टीम है, जो लगातार अच्छा प्रदर्शन करते आ रही है। चेन्नई महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 3 बार चैंपियन भी रह चुकी है। IPL में सबसे ज्यादा प्लेऑफ में पहुंचने का रिकॉर्ड भी चेन्नई के नाम ही है। चेन्नई IPL में अब तक 9 बार प्लेऑफ में पहुंची है। जिसमें से उसने सात बार फाइनल खेला है। IPL के इस सीजन में भी चेन्नई प्लेऑफ में पहुंचने वाली पहली टीम है। चेन्नई ने मंगलवार को सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया और सबसे ज्यादा अंकों के साथ अंक तालिका में टॉप पर पहुंच गई है। 

चेन्नई की इस जीत के बाद पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन सेरेमनी में जब धोनी से चेन्नई की लगातार सफलता के सक्सेस मंत्र के बारे में पुछा गया, तो धोनी ने मजाकिया अंदाज में कहा अगर में यह सबको बता दूंगा, तो टीम मुझे फिर ऑक्शन में नहीं खरीदेगी। उन्होंने हँसते हुए कहा, यह एक बिजनेस सीक्रेट है। टीम के सक्सेस मंत्र पर धोनी ने आगे कहा- फैंस-फ्रैंचाइजी का सपोर्ट और सबसे ज्यादा मैं टीम की सक्सेस का क्रेडिट टीम के सपोर्ट स्टाफ को देना चाहूंगा, जो टीम के माहौल को अच्छा बनाने में महत्वपूर्ण रोल निभाते हैं। धोनी ने कहा- इसके अलावा मैं रिटायर होने से पहले आपको कुछ नहीं बता सकता। इस सीजन में चेन्नई के अब तक 11 मैच हुए हैं। जिसमें से उसने 8 जीते हैं और 3 हारे हैं। अंक तालिका में चेन्नई सबसे ज्यादा 16 अंकों के साथ पहले स्थान पर मौजूद है। 

फिटनेस के बार में सवाल पर धोनी ने कहा - मेरा पीठ का दर्द अब ठीक है। थोड़ी बहुत समस्या है, इसलिए वर्ल्ड कप के लिए मुझे सावधान रहने की जरुरत है। धोनी ने कहा-पीठ में जकड़न है, लेकिन यह परेशान नहीं कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कोई ऐसा कोई खिलाड़ी नहीं है जो एक-दो ऐसी परेशानियों के साथ नहीं खेलता हो। अगर ज्यादा दिक्कतें हुईं, तो मैं आराम ले लूंगा। चेन्नई के कप्तान ने कहा, क्रिकेट के इस स्तर पर शरीर में एक-दो परेशानी के साथ खेला जा सकता है। अगर हम पूरी तरह फिट होकर खेलना चाहेंगे तो दो मैच के बीच पांच साल का अंतर हो सकता है। धोनी ने हैदराबाद के खिलाफ पहले मैच में 17 अप्रैल को कमर में खिंचाव होने के कारण मैच नहीं खेला था।

कमेंट करें
zVmtN