• Dainik Bhaskar Hindi
  • Crime
  • After Palghar, now Nadend In maharashtra: Murder of Sadhu entering into Ashram, accused from Telangana

दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र में पालघर के बाद अब नादेंड़: लूट के इरादे से आश्रम में घुसे युवक ने साधु की हत्या की, तेलंगाना में पकड़ाया

May 24th, 2020

हाईलाइट

  • महाराष्ट्र में लिंगायत समुदाय के एक साधु की हत्या
  • पुलिस ने आश्रम से बरामद किया रुद्र पशुपति का शव
  • लिंगायत समाज के ही व्यक्ति ने की साधु की हत्या

डिजिटल डेस्क, नादेंड़। महाराष्ट्र के पालघर में 2 साधुओं की हत्या के बाद अब नादेंड़ जिले में साधू की हत्या का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि आरोपी चोरी के इरादे से आश्रम में घुसे थे। इस दौरान साधू ने विरोध किया तो उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या के मामले में साईनाथ शिंगाडे नाम के शख्स को तेलंगाना से पकड़ा है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। प्रदेश में लगातार साधुओं की हत्या के मामले सामने आने से महाराष्ट्र की कानून व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। कर्नाटक के रहने वाले शिवाचार्य महाराज एक दशक पहले नांदेड़ आए और आश्रम की स्थापना की, जिसका संचालन वह अनुयायियों के एक समूह के साथ किया करते थे।

नांदेड़ जिले के पुलिस अधीक्षक विजय कुमार मागर के अनुसार शनिवार देर रात दो अज्ञात लोग चोरी के इरादे से उमरी तालुका के नागठाना स्थित आश्रम में घुसे। इस दौरान आरोपियों ने शिवाचार्य निर्वाणरुद्र पशुपतिनाथ महाराज की आंखों में मिर्च पाउडर डाल दिया, जिससे उन्हें दिखना बंद हो गया। अपराधियों ने साधू के बेडरूम से उनकी कार की चाबियों के अलावा 69,000 रुपए, उनका लैपटॉप और लगभग 1।50 लाख रुपए की कीमत के अन्य सामान लूट लिए। जब शिवाचार्य ने उनका विरोध किया तो बदमाशों ने उनकी हत्या कर दी।

आश्रम से थोड़ी दूर मिला एक आरोपी का शव
बताया जा रहा है कि आरोपी साधु के शव को उसी की गाड़ी की डिग्गी में डालकर भागने की कोशिश कर रहा था, लेकिन कार मठ के मुख्य गेट में फंस गई, इसलिए वह दूसरी एक बाइक चुराकर भाग गया। मागर ने बताया कि देर रात कार भिड़ने की आवाज सुनकर अश्रम में रहने वाले करीब 8-10 लोग दौड़कर बाहर निकले और दोनों को बाइक पर बैठकर अंधेरे में वहां से फरार होते देखा। बाद में हमें लुटेरों में से एक का शव आश्रम से थोड़ी दूर पर मिला। उन्होंने कहा कि साधु की हत्या की वजह लूट लग रही है। दो अपराधियों में से एक की हत्या के पीछे का कारण दोनों के बीच मतभेद हो सकता है। पुलिस अधीक्षक विजय कुमार मगर ने बताया कि आरोपी साईनाथ लिंगड़े एक हिस्ट्रीशीटर है और इसके ऊपर 10 साल पुराना हत्या का मुकदमा भी चल रहा है। वह उसी गांव का रहने वाला है जिस गांव में साधु रहता था। उन्होंने बताया कि साधु शिवाचार्य निर्णय रुद्रप्रताप महाराज (33) और भगवान शिंदे (50) की सुबह करीब चार बजे हत्या कर दी गई थी। साईनाथ शिंदे का परिचित था।

भाजपा नेता और प्रवक्ता राम कदम नेप्रदेश सरकार को घेरा
साधु की हत्या पर भाजपा नेता और प्रवक्ता राम कदम नेप्रदेश सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में एक महीने के अंतराल में दूसरी बार साधुओं की हत्या हो गई। सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी हैं। उन्होंने कहा कि पहली बार हुई साधुओं की हत्या को सरकार ने अफवाह करार दे दिया था। महाराष्ट्र में न तो साधु-संत सुरक्षित हैं और ना ही पुलिस सुरक्षित है। पिछले 2 महीने में महाराष्ट्र में 240 से अधिक पुलिसवालों पर हमले हुए हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार पूरी तरह से फेल हो गई है। 

नांदेड़ के कांग्रेस नेता चरनजीत सप्रा ने हत्या की निंदा की
वहीं, नांदेड़ के कांग्रेस नेता चरनजीत सप्रा ने साधु की हत्या की निंदा की है। उन्होंने कहा कि ये मामला आपसी रंजिश और चोरी का लगता है। 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लिया मामले का संज्ञान
प्रदेश सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण ने इस घटना की निंदा की है। उन्होंने पुलिस को मामले में आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी मामले को संज्ञान में लिया है।

आरोपियों को सजा दिलाए सरकार : फडणवीस
वहीं, इस दोहरे हत्याकांड को लेकर वरिष्ठ भाजपा नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट किया, 'नांदेड़ जिले में एक साधु और एक सेवाकारी की निर्मम हत्या बहुत दुखद और कष्टकारी है। मेरा राज्य सरकार से अनुरोध है कि सभी आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि उन्हें उचित सजा मिले।'