comScore

बांग्लादेश में हिरासत में हुई मौत पर मिली सजा का स्वागत

September 14th, 2020 14:30 IST
 बांग्लादेश में हिरासत में हुई मौत पर मिली सजा का स्वागत

हाईलाइट

  • बांग्लादेश में हिरासत में हुई मौत पर मिली सजा का स्वागत

ढाका, 14 सितंबर (आईएएनएस) ढाका में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर मिया सेप्पो और बांग्लादेश में अमेरिकी राजदूत अर्ल आर. मिलर ने साल 2014 में इश्तियाक अहमद जोनी की हिरासत में मौत के मामले में तीन पुलिसकर्मियों और दो अन्य लोगों को मिली सजा का स्वागत किया है।

बांग्लादेश टॉर्चर एंड कस्टडियल डेथ (रोकथाम) अधिनियम, 2013 के तहत यह पहला मामला और पहली सजा है।

इस 9 सितंबर को मेट्रोपॉलिटन सेशंस जज कोर्ट ने तीन पुलिसकर्मियों को आजीवन कारावास और दो मुखबिरों को सात साल जेल की सजा सुनाई है। जोनी को एक शादी समारोह से गिरफ्तार कर हिरासत में लिया गया था, और हिरासत के दौरान उसे क्रूर यातना दी गई थी।

न्यायाधीश के.एम. इमरुल कायेश ने आदेश देते हुए तीनों पुलिसकर्मियों पर 1-1 लाख टाका का जुर्माना भी लगाया, जिसे न देने पर उन्हें और छह महीने की जेल की सजा काटनी पड़ेगी।

दो अन्य पर 20-20 हजार टाका का जुर्माना लगाया गया, जिसे न चुकाने पर वे और तीन महीने जेल में काटेंगे।

वहीं राजदूत मिलर ने ट्विटर पर कहा, बांग्लादेश टॉर्चर एंड कस्टडियल डेथ (रोकथाम) अधिनियम के तहत पहली सजा के साथ ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण फैसला।

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि सभी व्यक्तियों के लिए जवाबदेही कानून व्यवस्था का कोई भी नियम महत्वपूर्ण है।

उन्होंने आगे कहा, संयुक्त राष्ट्र के अत्याचार, अतिरिक्त न्यायिक हत्याओं और लापता होने के खात्मे के आह्वान में शामिल हों।

सेप्पो ने कहा कि इस सजा ने अन्य पीड़ितों और उनके परिवारों को न्याय तक पहुंचने और यातना, अतिरिक्त न्यायिक हत्याओं और लापता होने के मामलों में सुधार के लिए आगे बढ़ने का मार्ग प्रशस्त किया है।

कोर्ट ने अपना फैसला सुनाने से पहले बुधवार को 24 गवाहों के बयान दर्ज किए थे।

इसके साथ ही कोर्ट ने तीनों पुलिस अधिकारियों को मुआवजे के रूप में मामले की वादी पक्ष को 2-2 लाख रुपये का भुगतान करने को कहा।

कोर्ट ने यह भी उल्लेख किया कि तीनों को 14 दिनों के भीतर मुआवजे का भुगतान करना होगा, अन्यथा वे हाईकोर्ट में इस फैसले के खिलाफ अपील दायर नहीं कर पाएंगे।

एमएनएस-एसकेपी

कमेंट करें
lC2RU