comScore

कमलेश हत्याकांड: राजनाथ ने डीजीपी, डीएम से कहा... तत्काल आरोपियों को पकड़ो

कमलेश हत्याकांड: राजनाथ ने डीजीपी, डीएम से कहा... तत्काल आरोपियों को पकड़ो

हाईलाइट

  • 2015 में पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ दिया था विवादित बयान
  • मामले की छानबीन में 10 टीमें लगाई गई हैं
  • सीसीटीवी फूटेज में कुछ लोग तिवारी के ऑफिस में आते हुए दिखे

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की शुक्रवार को उनके कार्यालय में ही गोली मारकर हत्या कर दी गई। उनके गले पर चाकू के भी निशान पाए गए हैं। लखनऊ से सांसद व रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कमलेश तिवारी की हत्या को लेकर डीजीपी और डीएम से फोन पर बात की और बिना देर किए आरोपियों को पकड़ने के और उचित कार्रवाई करने निर्देश दिए हैं।

चुनावी दौरे से लौटने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर सख्त तेवर अपनाए। उन्होंने इस मामले में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी और डीजीपी ओपी सिंह से तत्काल विस्तृत रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि शुरुआती जांच में सामने आया कि आपसी रंजिश के तहत घटना को अंजाम दिया गया है। मामले की छानबीन में 10 टीमें लगाई गई हैं। मौके पर एक पिस्तौल बरामद हुई है, उसकी जांच की जा रही है। इलाके के आसपास लगे सभी सीसी कैमरे खंगाले जा रहे हैं।

सीसीटीवी फूटेज में कुछ लोग तिवारी के ऑफिस में आते हुए दिखाई पड़े हैं। फुटेज में दोनों हत्यारों की तस्वीर मिल गई हैं। इस फुटेज के आधार पर हत्यारों की तलाश की जा रही है। उधर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कहा है कि हत्यारों का पता लगने के बाद उनके खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी।

कमलेश तिवारी अपनी पत्नी किरन, दो बेटे ऋषि व मृदुल के साथ रहते थे, जबकि बड़ा बेटा सत्यम पैतृक गांव महमूदाबाद में रहता है। किरन ने बताया कि दो लोग पति को फोन कर घर पर मिलने आए थे। कमलेश ने इन दोनों को ऊपर कमरे में बुला लिया और चाय बनाने को कहा था। बातचीत के दौरान ही कमलेश ने बेटे मृदुल को नौकर के साथ पान मसाला लेने के लिए नीचे भेज दिया था।

किरन ने बताया कि जब बेटा लौटा तो देखा कि कमलेश खून से लथपथ नीचे पड़े थे। फिर ड्राइवर ने उन्हें इस घटना के बारे में बताया। वह कमरे में पहुंची तो सब देखकर बदहवास हो गईं। शोर सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंच गए।

कमलेश की हत्या की खबर फैलते ही हिंदूवादी संगठन के पदाधिकारी व सैकड़ों कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए। उन्होंने अमीनाबाद का बाजार बंद कराकर पुलिस-प्रशासन व सरकार विरोधी नारेबाजी की,। रोडवेज बस में तोड़फोड़ की, पोस्टमार्टम हाउस तिराहा पर जाम लगाकर धरना-प्रदर्शन व हंगामा किया।

तनाव के मद्देनजर इलाके में कई थानों की पुलिस फोर्स और रैपिड एक्शन फोर्स तैनात कर दी गई है। देर रात तक सड़क पर बवाल चलता रहा। एसएसपी नैथानी का कहना है कि किसी युवती की गैर मजहब में शादी को लेकर कुछ झगड़े की बात सामने आ रही है। इसके अलावा कई अन्य बिंदुओं पर भी पड़ताल हो रही है।

कमेंट करें
s671k