खुदकुशी: लैंगिकता को लेकर प्रताड़ित किए जाने से तंग आकर 10वीं कक्षा की छात्रा ने की आत्महत्या

February 26th, 2022

डिजिटल डेस्क, फरीदाबाद। दिल्ली पब्लिक स्कूल ग्रेटर फरीदाबाद के 10वीं कक्षा के एक छात्र ने अपने आवासीय भवन से कूदकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। मृतक अपने पीछे एक सुसाइड नोट छोड़ गया है जिसमें उसके सहपाठियों द्वारा उसकी यौनिकता को लेकर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया है।

सुसाइड नोट में लिखा है, आप शक्तिशाली (मां) हैं, परवाह नहीं है कि लोग मेरी लैंगिकता के बारे में क्या कहते हैं, कृपया रिश्तेदार, दादाजी और नियाना को संभालें। स्कूल ने मुझे मार डाला है। उच्च अधिकारी भी जिम्मेदार हैं।

परिजनों का आरोप है कि कई बार शिकायत के बाद भी स्कूल प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि लड़के की मां भी स्कूल में पढ़ाती है। फरीदाबाद पुलिस अधिकारी ने कहा, उसने हमें दसवीं कक्षा के छात्र अपने बेटे को परेशान करने के लिए स्कूल के अकादमिक प्रमुख के खिलाफ शिकायत दी। उसकी शिकायत के आधार पर, हमने आत्महत्या के लिए उकसाने की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। एक टीम बनाई गई है और हम जांच कर रहे हैं।

पोस्टमॉर्टम पास के सरकारी अस्पताल में किया गया और रिपोर्ट का अभी इंतजार है। पिछले साल दो लड़कों ने उनकी सेक्शुअलिटी पर कमेंट किया था। इसके बाद लड़के ने अपनी मां से बात की जो प्रिंसिपल के पास गई। लेकिन, कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस घटना से आहत लड़का अवसाद में चला गया और दवा ले रहा था। लॉकडाउन के बाद बोर्ड परीक्षा के लिए स्कूल फिर से खुल गया।

लड़के ने एक विषय पर स्पष्टीकरण मांगने के लिए एक शिक्षक से संपर्क किया लेकिन उसे मना कर दिया गया। छात्र डिस्लेक्सिया से पीड़ित था और विज्ञान के पेपर के कुछ प्रश्नों को हल करने में असमर्थ था। पुलिस ने बताया कि एक महिला शिक्षिका ने लड़के और उसकी मां पर परेशान करने का आरोप लगाया था।

गुरुवार की रात मां के घर पहुंचने पर बालक ने घर से छलांग लगा दी। उसे पास के अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फरीदाबाद की अपराध शाखा की एक टीम ने अपराध स्थल का दौरा किया और कुछ सबूत एकत्र किए। इस मामले में आगे की जांच जारी है। स्कूल प्रशासन ने अभी तक स्पष्टीकरण जारी नहीं किया है।

आईएएनएस