धर्म: भाई के कलाई पर राखी बांधते समय लगायें ये 3 गांठ, इसके पीछे छिपा है खास मान्यता

July 26th, 2022

डिजिटल डेस्क, भोपाल। राखी  सिर्फ   एक त्योहार ही नहीं, बल्कि भाई-बहन के रिश्ते को और मजबूत बनाने का एक पर्व है। इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं और भाई की सलामती और सुखमय जीवन की कामना करती हैं। इसी के साथ अपने रिश्ते को और मजबूती प्रदान करती है।  रक्षा बंधन का पर्व हर साल सावन के महिने की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता हैं। लेकीन क्या एप सभी को पता हैं, की राखी बाधने के लिए शुभ मुहूर्त का बहुत बड़ा महत्व है । क्योंकि अशुभ मुहूर्त में राखी बांधना अशुभ फलदायी होता है। 

राखी बांधते समय लगाएं तीन गांठ 
आप जब भी अपने भाई को राखी बांधे तो उस में तीन गांठ जरुर लगाए। कहा जाता है,की राखी की पहली गांठ भाई की लंबी उम्र के लिए, दूसरी गांठ खुद की लंबी उम्र के लिए होती है. और तीसरी गांठ भाई-बहन के बीच रिश्ते को और मजबूत बनाती हैं। हिंदू धर्म ग्रंथ के अनुसार तीन गांठ का संबंध तीन देवता ब्रह्मा, विष्णु और महेश से भी लगाया जाता हैं। 

सावन पूर्णिमा, रक्षाबंधन 2022 तिथि और मुहूर्त


सावन पूर्णिमा तिथि आरंभ- 11 अगस्त 2022, 38 AM
सावन पूर्णिमा तिथि समाप्त- 12 अगस्त 2022, 05 AM
उदयातिथि के नियमानुसार रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्त 2022 को मनाया
राखी बांधने का शुभ मुहूर्त- 11 अगस्त 2022, 28 AM - 9.14 PM
रक्षाबंधन 2022 पर बन रहें ये शुभ योग

आयुष्मान योग - 10 अगस्त 2022, 35 PM से 11 अगस्त 2022 3.31 PM
रवि योग - 11 अगस्त 2022, 30 AM - 06.53 तक
सौभाग्य योग - 11 अगस्त 2022, 32 PM से 12 अगस्त 2022 11.33 AM
शोभन योग - रक्षाबंधन पर घनिष्ठा नक्षत्र के साथ शोभन योग भी बनेगा.
 
डिसक्लेमरः ये जानकारी अलग अलग किताब और अध्ययन के आधार पर बताई गई है। भास्कर हिंदी इसकी पुष्टि नहीं करता है।