दैनिक भास्कर हिंदी: विशेष गुण के धनी होते हैं भाद्रपद माह में जन्मे जातक, जानिए कैसा होता है स्वभाव 

August 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 27 अगस्त 2018 से भाद्रपद (भादों) का हिंदी मास आरंभ हो रहा है। अंग्रेजी कैलेंडर की तरह हिन्दू पंचांग भी 12 महीनों से ही बना है। जिसका सबसे पहला महीना वैशाख है, जो अंग्रेजी कैलेंडर के अप्रैल-मई का होता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार अगस्त-सितंबर में भादो आता है। हम आपको यहां भादो यानि भाद्रपद मास में जन्म लेने वाले बच्चों के बारे में बताने जा रहे हैं।

भाद्रपद माह (भादो) में जन्मे जातक उदार विचारों वाले तथा विशाल हृदय वाले होते हैं। ये विश्वसनीय कर्तव्य पालक, दूसरों की सहायता करने वाले तथा सफल व्यापारी होते हैं। इनका चरित्र अधिकतम दृढ़ नहीं रहता। महत्त्वपूर्ण या विशेष कार्यों का ये बड़ी योग्यता के साथ सम्पादन कर पाते हैं, परन्तु कभी-कभी सनक में आकर असाध्य कार्य जो कभी नहीं किया उसको भी प्रारम्भ कर बैठते हैं।

इनका विवाह शीघ्र ही हो जाता है। इनका भाग्योदय 22 वर्ष के बाद हो पाता है। इनका सन्तान सुख मध्यम होता है। शारीरिक स्वास्थ्य सामान्य रहता है। शीत रोगों का भय अधिक होता है। इस माह में जन्मे जातकों का दाम्पत्य जीवन सुखमय व्यतीत होता है। इनके मित्रों की संख्या कम होती है, परन्तु मित्र जितने होते हैं सच्चे होते हैं। भाई बन्धुओं से अधिकतम विवाद बना रहता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिन लोगों का जन्म भादों में हुआ है वो उदार चरित्र के होते हैं, उनका दिल बहुत बड़ा होता है। इन पर आप पूर्ण रूप से भरोसा कर सकते हैं और ये अपने कर्तव्यों का साथ कभी नहीं छोड़ते। दूसरों की सहायता करने वाले ये लोग एक सफल व्यापारी भी सिद्ध होते हैं।

इनकी सबसे बड़ी कमी यही है कि इनका मन सदा भटकता रहता है। इन्हें खाली या फालतू बैठना बिल्कुल पसंद नहीं आता, वैसे तो ये लोग अधिकतम संपन्न होते हैं लेकिन परिश्रम करना कभी नहीं छोड़ते।