दैनिक भास्कर हिंदी: खत्म हुई सिनेमा की हड़ताल,सिर्फ सिंगल स्क्रीन्स पर ही देख पाएंगे फिल्में, मल्टी प्लेक्स पर नहीं

October 18th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मध्य प्रदेश के सिनेमाघर संचालको की 5 अक्टूबर से शुरू हुई अनिश्चिकालीन हड़ताल 14वें दिन खत्म हो गई। राजधानी भोपाल में सिनेमा ऑनर्स एसोसिएशन ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हड़ताल खत्म करने की जानकारी दी। हालांकि ये हड़ताल सिर्फ सिंगल स्क्रीन सिनेमा की तरफ से ही वापस ली गई है, जबकि मल्टी प्लेक्स में अभी भी हड़ताल जारी है। सिंगल स्क्रीन मालिकों के हड़ताल खत्म करने से सिनेमा एसोसिएशन दो धड़ों में बंटा हुआ नजर आ रहा है।

दो धड़ों में बंटा सिनेमा एसोसिएशन
सिंगल स्क्रीन थिएटर्स की हड़ताल वापस लेने के बाद भी सिंगल स्क्रीन वाले सिनेमा संचालकों का कहना है कि अब दिसंबर के बाद अपनी बात रखेंगे और मांग पूरी नही होने पर हाईकोर्ट जाएंगे। वहीं मल्टी प्लेक्स संचालक अभी भी अपनी मांगों पर हड़ताल पर बैठे हैं। मल्टी प्लेक्स हड़ताल खत्म नहीं करना ही नहीं चाह रहे थे, ऐसे में सिंगल स्क्रीन संचालकों ने इनसे अलग होते हुए अपनी हड़ताल खत्म करने की घोषणा कर दी है। 

प्रदेश के 252 सिंगल स्क्रीन थिएटर्स शुरू
सिंगल स्क्रीन संचालकों की हड़ताल खत्म होने के साथ ही प्रदेश के 252 सिंगल स्क्रीन थिएटर में 19 अक्टूबर को रिलीज हो रही फिल्मों को रिलीज किया जाएगा, इसके अलावा दूसरी भाषाओं की फिल्म दिखाई जाएगी। 

सिंगल स्क्रीन थिएटर संचालकों की मुश्किल
सिंगल स्क्रीन वाले सिनेमा संचालकों का कहना है कि अब दिसंबर के बाद अपनी बात रखेंगे और मांग पूरी नही होने पर हाईकोर्ट जाएंगे।मगर सिंगल स्क्रीन संचालकों के सामने समस्या यह है प्रॉड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने एंटरटेनमेंट टैक्स खत्म नहीं किए जाने तक प्रदेश में फिल्म रिलीज नहीं करने की बात कही है, ऐसे में जब डिस्ट्रीब्यूटर्स को ही फिल्में नहीं मिलेंगी तो राजधानी समेत प्रदेश के सिंगल स्क्रीन सिनेमा हॉल संचालकों को फिल्म दिखाने के लिए कहां से मिलेंगी। 

क्यों हुई सिनेमाघर संचालकों की हड़ताल

मध्य प्रदेश के सिनेमाघरों के मालिक 5 अक्टूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे। सिनेमाघरों के मालिक दोहरे टैक्स के विरोध में हड़ताल कर रहे हैं। ये वर्ग सिने एसोसिएशन भोपाल और इंदौर के नगर निगमों द्वारा जारी अधिसूचना का विरोध कर रहा है। हड़ताल की वजह है, नगर निगम का मनोरंजन कर के नाम पर मल्टीप्लेक्स और सिनेमाघरों पर टैक्स लगाना। ये GST के अलावा लिया जाएगा। सिनेमा हॉल और मल्टी प्लेक्स पर राज्य सरकार ने 5, 10 और 15 प्रतिशत के तीन स्लैब में एंटरटेनमेंट टैक्स लगाया है। जबकि, सिंगल स्क्रीन 18 और मल्टी प्लेक्स 28 प्रतिशत जीएसटी और प्रति शो 200 रुपए शो टैक्स देते हैं।  दोहरे टैक्स से परेशान होकर मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सभी सदस्यों ने 5 अक्टूबर, 2018 से हड़ताल पर जाने का फैसला लिया था।

अब तक एंटरटेनमेंट टैक्स में कोई संशोधन नहीं

हड़ताल शुरू होने के अगले ही दिन आचार संहिता लगने के कारण अब तक हड़ताल के बाद भी कोई संशोधन नहीं हुआ है।पिछले दिनों सिनेमा हॉल संचालकों ने राज्य की मंत्री माया सिंह से मुलाकात भी की थी लेकिन उस मुलाकात का कोई अर्थ नहीं निकल पाया। 

दो हफ्तों से कोई भी फिल्म रिलीज नहीं
5 अक्टूबर को हड़ताल के बाद से एमपी में कोई फिल्म रिलीज नहीं हुई। हड़ताल के पहले दिन ही सलमान खान के जीजा आयुष शर्मा की डेब्यू फिल्म लवयात्री रिलीज हुई, लेकिन सलमान के पिता सलीम खान ने अपने होमटाउन इंदौर के व्यापारियों को जीएसटी के ऊपर एंटरटेनमेंट टैक्स के विरोध का समर्थन करते हुए फिल्म रिलीज ना करने का फैसला लिया था।