comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

एन95 या कॉटन मास्क? फैशन की दुनिया में छिड़ी जंग

June 04th, 2020 19:00 IST
 एन95 या कॉटन मास्क? फैशन की दुनिया में छिड़ी जंग

हाईलाइट

  • एन95 या कॉटन मास्क? फैशन की दुनिया में छिड़ी जंग

नई दिल्ली, 4 जून (आईएएनएस)। लॉकडाउन के पांचवे चरण में सरकार द्वारा ढील दिए जाने के बाद लोग अब घरों से बाहर निकलने लगे हैं। ऐसे में फेस मास्क और सुरक्षा उपकरणों की मांग पहले से काफी ज्यादा बढ़ गई है।

जहां एन95 और सर्जिकल मास्क सबसे ज्यादा मशहूर है, वहीं कपड़ों के बने मास्क भी बेहद प्रभावी व फैशनेबल माने गए हैं। ये मुलायम, आरामदेह और सहज होते हैं और इनसे नाक व चेहरे को पर्याप्त कवरेज भी मिल जाता है।

इनमें कई सारे फीचर्स भी हैं जैसे कि ट्रिपल लेयर फिल्ट्रेशन, लीकेज कंट्रोल (धूल के कण छन जाते हैं), अल्ट्रा-कूल टेक्नोलॉजी और प्रदूषण, धूल, धुआं से सुरक्षा इत्यादि।

सबसे जरूरी बात तो यह है कि इन्हें धोकर इनका दोबारा इस्तेमाल भी किया जा सकता है। बीते दिनों एन95/सर्जिकल मास्क की भारी मांग रही, ऐसे में भारत सरकार और रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने वायरस को फैलने से रोकने और खुद को स्वस्थ रखने के लिए कपड़ों के बने मास्क या होममेड मास्क के उपयोग के लिए एक सलाह जारी की।

महिलाओं के लिए लुई फिलिप, जैक एंड जॉन्स, मैक्स और डब्ल्यू जैसी कई प्रमुख कंपनियों ने क्लॉथ मास्क को बनाकर उन्हें ऑनलाइन बेचना शुरू कर दिया। अमेजन फैशन की तरफ से एक ऐसे स्टोर की भी पेशकश की गई है, जिसमें देश भर के 35 से विक्रेताओं से पांच सौ से अधिक मास्क उपलब्ध हैं। आप चाहें तो स्थानीय विक्रेताओं से वियर योर ओपिनियन, बॉन ऑर्गेनिक और रैप्सोडिया जैसे तमाम मास्क की खरीदारी कर उन्हें इस्तेमाल में ला सकते हैं।

यहां कुछ ऐसे ही मास्क सुझाए गए हैं, जिन्हें आप अपनी पसंद व फैशन के मुताबिक पहन सकते हैं।

प्रिंटेड

प्रिंट का फैशन हमेशा से ही चलन में रहा है। ये मुलायम मास्क ट्रोपिकल, जियोमेट्रिक और कई अन्य लुभावने डिजाइन्स में उपलब्ध हैं।

फ्लोरल

ये कुछ ऐसे हैं, जो हर रोज के उपयोग के लिए उपयुक्त हैं और महिलाओं को यह बेहद भाता भी है।

चेक और स्ट्राइप्स

ये दिखने में काफी प्रोफेश्नल लगते हैं और पहनने में लुक भी काफी अच्छा आता है।

मोनोटोन

ब्राइट, बोल्ड और सॉलिड कलर्ड के ये मास्क भी आजकल काफी चलन में हैं, जिन्हें अपनी पसंद के रंग अनुसार पहना जा सकता है।

कमेंट करें
mpzs1
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।