दैनिक भास्कर हिंदी: Statement: हमें नेपोटिज्म पर नहीं, पक्षपात पर बात करनी चाहिए- गुलशन देवैया 

June 20th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अभिनेता गुलशन देवैया को लगता है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद लोगों में जो गुस्सा है, वो गलत चीज को लेकर है। गुलशन ने आईएएनएस से कहा, यह सोचने का मौका है, ना कि आरोप लगाने का। क्योंकि यहां कई तरह के षड्यंत्र थ्योरी हैं। लोगों में जो गुस्सा है, वो गलत चीजों को लेकर है। अगर आप मुझसे पूछते हैं तो मैं कहूंगा क्रोध करना गलत है।

उन्होंने कहा, हमें इस वक्त शोक जताने की जरूरत है। मेरे जैसे अभिनेताओं को यह सोचने की जरूरत है कि हम कैसे आगे बढ़ें। चाहे हमारे पास उतना धैर्य हो या न हो, चाहे हम अपनी निराशाओं से निपट सकते हों या नहीं। कभी-कभी आप कई सालों तक बहुत मेहनत करते हैं और कुछ भी नहीं होता है। 

फिर से शूटिंग शुरू करने को लेकर असमंजस में हैं बॉलीवुड कलाकार

उन्होंने कहा कि यह पहले भी हुआ है और फिर होगा। आप जो भी करेंगे, लोग आपको जज करेंगे। वे आपके सामने अच्छी बातें कहेंगे और पीछे बुरी। आप क्या करते हैं? क्या आप मेहनत करना छोड़ेंगे या आगे बढ़ेंगे? हमें इन सवालों के जवाब पता लगाने की जरूरत है, ना कि ये कि किस चीज ने सुशांत को मारा।

सुशांत को रविवार की सुबह बांद्रा स्थित आवास पर लटका पाया गया, जिससे उद्योग और उनके प्रशंसकों को खासा झटका लगा है। वह कथित तौर पर पिछले कुछ महीनों से अवसाद से जूझ रहे थे और उनका इलाज चल रहा था। ऐसे में गुलशन को लगता है कि भाई-भतीजावाद से ज्यादा बात पक्षपात की करनी चाहिए।

उन्होंने आगे कहा, नेपोटिज्म पारिवारिक वंशावली के बारे में है जब आप अपने परिवार से कुछ प्राप्त करते हैं और उसका फायदा लेते हैं। चलिए हम पक्षपात पर बात करते हैं। निर्माता अपने पैसे से फिल्म बना रहा है ना कि करदाता के, इसलिए लोग यह नहीं कह सकते हैं कि हमने पैसा दिया है इसलिए हम जैसी फिल्म कहें आप वैसी ही बनाएं या हम चाहते हैं कि आप योग्यता के आधार पर इसमें लोगों को लें। यह एक निजी उद्यम है।

कंपोजर मिथुन ने जिंदगी बदल देने वाले गाने को किया याद

उन्होंने कहा, आप योग्यता को माप नहीं सकते हैं। हर किसी की अपनी राय है। सुशांत के प्रशंसक सोचेंगे कि सुशांत अधिक योग्य हैं। राजकुमार (राव) के प्रशंसक सोचेंगे, वह अधिक योग्य है। मेरे प्रशंसक सोचेंगे कि मैं अधिक योग्य हूं। यह अंतहीन है। लिहाजा लोगों को आरोप-प्रत्यारोप करना बंद करना चाहिए। जरूरत इस बात की है लोग पक्षपात करना बंद करें।

बता दें कि अभिनेता शैतान, गोलियों की रासलीला राम-लीला, हंटर, और मर्द को दर्द नहीं होता जैसी फिल्मों में नजर आ चुके हैं।