comScore

थाईलैंड: गुफा से रेस्क्यू हुए बच्चे पहली बार आए मीडिया के सामने, सुनाई अपनी कहानी

July 19th, 2018 12:28 IST

हाईलाइट

  • थाइलैंड की गुफा में फंसे फुटबॉल टीम के खिलाड़ी और कोच रेस्क्यू के बाद पहली बार जनता के सामने आए।
  • इस दौरान इन खिलाड़ियों और उनके फुटबॉल कोच ने मुस्कुराते हुए पारंपरिक अंदाज में 'वाई' अभिवादन किया।
  • बच्चों ने बताया कि जब उन्हें वहां खाना और पीने का पानी नहीं मिल रहा था तो उन्होंने चट्टानों से रिस रहे पानी को पीकर अपनी प्यास बुझाई।

डिजिटल डेस्क, बैंकॉक। थाइलैंड की गुफा में फंसे फुटबॉल टीम के खिलाड़ी और कोच रेस्क्यू के बाद पहली बार जनता के सामने आए। बुधवार को उत्तरी प्रांत के चिआंग राय में इन सभी के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान इन खिलाड़ियों और उनके फुटबॉल कोच ने मुस्कुराते हुए पारंपरिक अंदाज में 'वाई' अभिवादन किया। इन सभी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पत्रकारों के सवालों के जवाब भी दिए और अपना एक्सपीरियंस शेयर किया। इस बच्चों ने प्रेस ब्रीफिंग से पहले फुटबॉल भी खेला।

बच्चे ऐसे बुझाते थे प्यास
बच्चों ने बताया कि जब उन्हें वहां खाना और पीने का पानी नहीं मिल रहा था तो उन्होंने चट्टानों से रिस रहे पानी को पीकर अपनी प्यास बुझाई। फुटबॉल टीम के कोच इकफॉल चांचावॉन्ग ने कहा कि उन्हें बहुत बुरा लगा जब उन्हें ये पता चला कि रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान पूर्व थाई नेवी डाइवर समन कुनान की मौत हो गई। इन्हीं में से एक वाइल्ड बोर्स के फुटबॉलर अब्दुल सैम ओन (14) ने बचाव के बारे में कहा कि यह एक चमत्कार था।

चार खिलाड़ियों को मिलेगी थाई नागरिकता
कोच ने बताया कि जब गुफा में पानी बढ़ने लगा तो उन्होंने सभी बच्चों से कहा कि वह डरे नहीं, कल तक पानी कम हो जाएगा। जब एक बच्चे से पूछा गया कि जब उन्हें भूख लगी तो सबसे पहले क्या खयाल आया। बच्चे ने जवाब दिया "फ्राइड राइस"। इस बच्चों में से चार खिलाड़ी ऐसे भी है जिनके पास थाइलैंड की नागरिकता नहीं है। वहां के प्रशासन ने अब ये तय किया है कि उन्हें थाइलैंड की नागरिकता दी जाएगी। इसके पेपर भी सबमिट कर दिए गए है।

बच्चे और कोच पूरी तरह से स्वस्थ
इन बच्चों के डॉक्टर ने बताया कि सभी 12 बच्चे और उनके कोच शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह स्वस्थ हैं। इन लड़कों के वजन में करीब 3 किलोग्राम की बढ़ोतरी हुई है। डॉक्टर्स का कहना था कि गुफा में इन बच्चों का वजन औसतन 4 किलोग्राम कम हो गया था। ये बच्चे करीब दो हफ्ते तक गुफा में फंसे रह गए थे। 13 साल के डोम की दादी खामयू प्रोथेप ने कहा कि यह मेरे जीवन का सबसे खुशी का दिन है।

प्रेस ब्रीफिंग को रखा गया नियंत्रित
बुधवार को हुई ब्रीफिंग काफी नियंत्रित थी। थाईलैंड के जुंटा नेता प्रयुत चान ओ चा ने मीडिया से इन बच्चों से सवाल पूछने के दौरान सावधानी बरतने की अपील की थी और उनसे ऐसे सवालों से बचने को कहा था कि जिनसे बच्चों को नुकसान पहुंचे। सियांग राय के जन संपर्क विभाग ने मीडिया संगठनों से पहले ही सवाल मंगा लिये थे और उन्हें मनोचिकित्सकों को भेज दिया था।

कमेंट करें
MFQfa