comScore

America: डोनाल्ड ट्रंप ने क्यों कहा- देश में कोरोना संक्रमण दुनिया में सबसे ज्यादा होना सम्मान की तरह


हाईलाइट

  • दुनिया के जिस देश में कोरोनावायरस ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है वो है अमेरिका
  • ट्रंप ने कहा- देश में कोरोना संक्रमण दुनिया में सबसे ज्यादा होना सम्मान की तरह
  • अमेरिका में 93 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस से अपनी जान गवा चुके हैं

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। दुनिया के जिस देश में कोरोनावायरस ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है वो अमेरिका है। इस देश में 93 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस से अपनी जान गवा चुके हैं जबकि संक्रमितों की संख्या 15 लाख को पार कर गई है। ऐसे हालातों के बावजूद अगर उस देश का राष्ट्रपति इसे गर्व की बात बताए तो हैरानी होती है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि देश में कोरोना संक्रमण दुनिया में सबसे ज्यादा होना सम्मान की बात है। उन्होंने कहा कि जब आप कहते हैं कि हम संक्रमण के मामलों में आगे हैं तो मैं इसे बुरा नहीं मानता।

ब्राजील पर ट्रैवल बैन लगाने की तैयारी में अमेरिका
ट्रंप से वाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सवाल किया गया था कि क्या वे लैटिन अमेरिकी देशों, ख़ासकर ब्राज़ील के ट्रैवल बैन के बारे में विचार कर रहे हैं?  जहां अमेरिका और रूस के बाद सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले पाये गए हैं। इस सवाल का ट्रंप ने जवाब दिया 'हां हम इस पर विचार कर रहे हैं। मैं नहीं चाहता कि वहां के लोग यहां आएं और हमारे लोगों को संक्रमित करें। ब्राजील में फिलहाल कुछ संकट हैं, हमें उससे कोई समस्या नहीं है। हम उसे वेंटिलेटर्स देकर मदद कर रहे हैं।' इसके साथ ही ट्रंप ने कहा, 'जब आप कहते हैं कि हम संक्रमण के मामलों में हम आगे हैं तो मैं इसे बुरा नहीं मानता। इसका मतलब है कि हमने दूसरे देशों से कहीं ज्यादा टेस्टिंग की है। यह अच्छी बात है, क्योंकि इससे पता चलता है कि हमारी टेस्टिंग बेहतर है। मैं इसे एक ‘सम्मान पदक’ के तौर पर देखता हूं।’

क्या ट्रंप का दावा झूठा है?
ट्रंप के दावे के विपरीत अमेरिका का टेस्टिंग लेवल असाधारण नहीं हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी आधारित एक साइंटिफिक पब्लिकेशन के मुताबिक अमेरिका टेस्टिंग में काफी पीछे है। प्रत्येक 1 हजार लोगों की टेस्टिंग के मामले में यह दुनिया में 16 वें स्थान पर है। वहीं ब्लूमबर्ग के डेटा के मुताबिक अमेरिका प्रति 1,000 लोगों पर किए गए टेस्ट में  इटली और जर्मनी जैसे देशों से पीछे हैं। इतना ही नहीं अमेरिका में हर 7.8 टेस्ट में कोरोना का मामला मिल रहा है जबकि न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया जैसे देश अमेरिका से आगे हैं। अमेरिका के सेंटर्स फॉर डीजीज कंट्रोल के मुताबिक अमेरिका मंगलवार तक अमेरिका में 1 करोड़ 60 लाख टेस्ट हुए हैं।

विपक्ष ने की ट्रंप के बयान की कड़ी आलोचना
विपक्षी डेमोक्रेटिक नेशनल कमेटी ने राष्ट्रपति ट्रंप के इस बयान की कड़ी आलोचना की है। कमेटी ने कहा है कि अमरीका में 15 लाख से अधिक लोगों का कोरोना वायरस से संक्रमित होना ‘नेतृत्व के पूरी तरह फेल होने की निशानी’ है। इससे पहले पिछले हफ्ते सीनेट की बैठक में भी इसे लेकर सवाल किए गए थे। रिपब्लिकन सांसद मिट रोम्नी ने कहा कि था देश का टेस्टिंग रिकार्ड अच्छा नहीं है। हमारे यहां फरवरी मार्च में मामले सामने आने शुरू हुए थे। इस लिहाज से देखें तो अब तक हुई टेस्टिंग पर्याप्त नहीं हैं। इसमें खुश होने जैसे कोई बात नहीं। 

कमेंट करें
s8bRa
कमेंट पढ़े
yogesh May 20th, 2020 17:09 IST

epaper

yogesh May 20th, 2020 17:09 IST

epaper