मौत का खेल: इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान भड़की हिंसा, 127 लोगों की मौत हुई, 180 से अधिक घायल

October 2nd, 2022

हाईलाइट

  • इंडोनेशिया की पुलिस ने घटना की पुष्टि की है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इंडोनेशिया में एक फुटबॉल मैच के दौरान हिंसा भड़कने से करीब 127 लोगों की मौत हो गई है। जबकि 180 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। मृतकों में दो पुलिसकर्मी भी शामिल बताए जा रहे हैं। इंडोनेशिया की पुलिस ने घटना की पुष्टि की है। समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, घटना पूर्वी जावा के मलंग रीजेंसी के कंजुरुहान स्टेडियम में हुई।

इंडोनेशियाई खेल मंत्री जैनुद्दीन अमली ने इस घटना के लिए माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि, मामले की जांच करेंगे और इंडोनेशियाई फुटबॉल टूर्नामेंट में आयोजकों के प्रबंधन और सुरक्षा उपायों का पुनर्मूल्यांकन करेंगे।

इन टीमों के बीच था मैच
खबरों के मुताबिक, शनिवार की देर शाम कंजुरुहान स्टेडियम में अरेमा मलंग क्लब और पसेर्बाया सुरबाया के बीच मुकाबला हुआ, जिसमें अरेमा को की टीम हार हार का मुंह देखना पड़ा। टीम की हार के बाद बड़ी संख्या में नाराज फैंस फुटबॉल मैदान में घुस गए और आपस में भिड़ गए, देखते ही देखते ये भिडंत इतनी हिंसक हो गई कि इसमें 127 लोगों की मौत हो गई।

भगदड़ और दम घुटने से हुई मौत
हिंसा को बढ़ते देख इंडोनेशिया की नेशनल आर्म्ड फोर्सेस को मौके पर बुलाया गया था, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोगों की मौतें मारपीट, भगदड़ और दम घुटने से हुई हैं। वहीं स्टेडियम में लोगों में मारे गए दो पुलिस अधिकारी भी हैं। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने लोग गंभीर रूप से घायल हैं। 

मैदान में ही 34 लोगों की मौत
ईस्ट जावा पुलिस के चीफ निको एफिंटा के अनुसार, इस घटना में मैदान में ही 34 लोगों की मौत हो चुकी थी। बाकी लोगों की मौत अस्पताल में उपचार के दौरान हुई है। फुटबॉल स्टेडियम में इस हिंसा की जानकारी भी किसी ने पुलिस को दे दी, इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस और इंडोनेशियाई राष्ट्रीय सशस्त्र बल के जवानों ने खिलाड़ियों को किसी तरह मैदान से सुरक्षित बाहर निकाला। 

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दोनों फुटबॉल टीमों के समर्थकों ने स्टेडियम के अंदर आपस में मारपीट की और दंगा किया। भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने आंसूगैस के गोले दागे, जिससे भीड़ में दहशत फैल गई। लोगों ने स्टेडियम छोड़ने के लिए हाथापाई की, जिससे बाहर निकलने पर भगदड़ मच गई।