दैनिक भास्कर हिंदी: ईरान के राष्ट्रपति ने दी ट्रंप को धमकी, कहा- वही हाल करेंगे जो सद्दाम हुसैन का किया था

September 23rd, 2018

हाईलाइट

  • ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पर हमला बोला है।
  • रूहानी ने कहा कि अमेरिका कुछ भी करे ईरान मिसाइल बनाना बंद नहीं करेगा।
  • ट्रंप और रूहानी दोनों अगले हफ्ते यूनाइटेड नेशन जेनरल असेंबली के मौके पर न्यूयॉर्क में होंगे।

डिजिटल डेस्क, दुबई। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पर हमला बोला है। रूहानी ने शनिवार को कहा कि हमनें जो हाल ईराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन का किया था, वही हाल ट्रंप का भी करेंगे। उन्होंने कहा कि अमेरिका कुछ भी करे, ईरान मिसाइल बनाना बंद नहीं करेगा। बता दें कि ट्रंप और रूहानी दोनों अगले हफ्ते यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली (UNGA) के मौके पर न्यूयॉर्क में होंगे। हालांकि दोनों देशों के बीच कोई मीटिंग नहीं होगी।

रूहानी ने एक भाषण में कहा, 'ईरान ने गल्फ देशों की नौसेनाओं के बीच हुई ड्रील में 600 जहाजों के साथ भाग लिया था। हमारे पास जहाजों के साथ-साथ कई खतरनाक लड़ाकू विमान भी हैं जो कि कभी भी किसी को मुंहतोड़ जवाब देने की काबिलीयत रखती है।'

रूहानी ने कहा कि वह किसी भी कीमत पर ईरान के डिफेंस और सेना की क्षमताओं को कम नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, 'जिस मिसाइल की वजह से अमेरिका ईरान को आंख दिखाता है, हम उस ताकत को बढ़ाएंगे। वह ही हमारे सबसे प्रभावी हथियार हैं।' दरअसल अमेरिका को ईरान के बैलिस्टिक मिसाइल से नाराजगी है। यह मिसाइल 3,500 किलोमीटर (2,200 मील) तक की दूरी तय कर सकता है। यह मिसाइल मध्य-पूर्व में इज़राइल के साथ-साथ US को भी तहस-नहस करने की क्षमता रखता है।

दूसरी तरफ अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, ईरान की क्षमताओं से पूरी तरह वाकिफ हैं। इसलिए बुधवार को ट्रंप ने ईरान मामलों पर एक विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किया है। एक रिपोर्ट के अनुसार USA ईरान से एक ट्रीटी पर बातचीत करना चाहता है। हालांकि UNGA में रूहानी और ट्रंप दोनों मौजूद होंगे, पर अमेरिकी और ईरान के बीच कोई भी बैठक का ऐलान नहीं किया गया है। सूत्रों के अनुसार, रूहानी UNGA में फ्रांस के राष्ट्रपति इमेनुअल मैक्रॉन के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।

बता दें कि इसी साल मई 2018 में अमेरिका ने ईरान के साथ 2015 की न्यूक्लियर डील को तोड़ दी थी। साथ ही ईरान पर फिर से नए आर्थिक प्रतिबंध लगाने का ऐलान कर दिया था। यह प्रतिबंध दो चरणों में लागू करने की घोषणा की गई थी। सात अगस्त को प्रतिबंध का पहला लागू कर दिया गया है, जबकि चार नवंबर को दूसरा सेट लागू किया जाएगा। इसी कड़ी में ट्रंप ने भारत और चीन समेत सभी देशों को चेतावनी दी थी कि चार नवंबर तक ईरान से तेल आयात बंद कर दें नहीं तो उस देश पर भी बैन लगा दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...