दैनिक भास्कर हिंदी: एयर स्ट्राइक : बगदाद में मारा गया ईरान की कुड्स फोर्स का कमांडर कासिम सुलेमानी

January 3rd, 2020

हाईलाइट

  • बगदाद में कद्स फोर्स का जनरल कासिम सुलेमानी मारा गया
  • अमेरिका ने ड्रोन हमला कर जनरल कासिम सुलेमानी को मारा है
  • इराकी राज्य टेलीविजन और बगदाद के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की

डिजिटल डेस्क, बगदाद। इराक की राजधानी बगदाद में शुक्रवार तड़के ईरान की रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स की एक ईकाई 'कुड्स फोर्स' का जनरल कासिम सुलेमानी और इराकी मिलिशिया कमांडर अबू महदी अल-मुहांडिस मारा गया। अमेरिका ने ड्रोन हमला कर इन दोनों को मारा है। पेंटागन, इराकी राज्य टेलीविजन और बगदाद के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की।

व्हाइट हाउस ने कहा, 'राष्ट्रपति के निर्देश पर, अमेरिकी सेना ने ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स -क्वैड्स फोर्स के प्रमुख कासिम सोलेमानी की हत्या की है। ये रक्षात्मक कार्रवाई है जिसे विदेश में अमेरिकी कर्मियों की रक्षा के लिए की गई है।' व्हाइट हाउस ने कहा, 'जनरल सुलेमानी सक्रिय रूप से इराक और पूरे क्षेत्र में अमेरिकी राजनयिकों और सेवा सदस्यों पर हमला करने की योजना बना रहे थे।' ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड की यूनिट कुड्स फोर्स को अमेरिका ने विदेशी आतंकवादी संगठन के तौर पर नामित किया है।

ईरान के विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ़ ने अमेरिका के इस कदम को बेहद खतरनाक और मूर्खतापूर्ण बताया है। ज़रीफ़ ने कहा, यह सबसे प्रभावी फोर्स थी जो ISIS, अल नुसराह, अल कायदा से लड़ रही थी। अब सुलेमानी की हत्या के सभी परिणामों के लिए अमेरिका जिम्मेदार होगा।

दो ठिकानों पर किए गए हमले
अमेरिकी अधिकारियों ने रॉयटर्स को बताया कि गुरुवार को बगदाद में ईरान से जुड़े दो ठिकानों पर हमले किए गए थे। अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बोलते हुए कोई और जानकारी देने से इनकार कर दिया। इराकी पार्लियामेंट्री ग्रुपों ने शुक्रवार को कहा कि तीन रॉकेट बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर टकराए, जिससे इराकी पार्लियामेंट्री ग्रुपों के पांच सदस्य और दो गेस्ट मारे गए। कई लोग इसमें घायल भी हुए हैं।

अमेरिका-ईरान में बढ़ सकता है कोल्ड वॉर
ईरानी जनरल के मारे जाने से ईरान और अमेरिका के बीच चल रहे कोल्ड वॉर में असाधारण तेजी आ सकती है। सुलेमानी एक दशक से अधिक समय तक मध्य पूर्व के सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक रहा है। सुलेमानी ने रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स की विदेशी शाखा का नेतृत्व किया था। सीरिया और इराक की लड़ाई में उसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। सुलेमानी को देश और विदेश में सेलिब्रिटी का दर्जा हासिल किया।

सुलेमानी 1998 में बना था कुड्स फोर्स का प्रमुख
सुलेमानी को 1998 में कुड्स फोर्स का प्रमुख बनाया गया था। मिडिल ईस्ट में ईरानी प्रभाव के प्रसार में वह सहायक था। पिछले दो दशकों में पश्चिमी, इजरायल और अरब एजेंसियों ने कई बार उसे मारने की कोशिश की, लेकिन वह हर बार बच गया। सोलीमनी की कुड्स फोर्स के पास ईरान की सीमाओं से परे ऑपरेशन का जिम्मा था। इराक में इस्लामिक स्टेट को हराने के लिए सुलेमानी ने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद की भी मदद की थी।

 

 

 

 

खबरें और भी हैं...