comScore

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन: पीएम मोदी ने की राष्ट्रपति पुतिन और बोल्सोनारो के साथ द्विपक्षीय बैठक


हाईलाइट

  • पीएम मोदी ने की राष्ट्रपति पुतिन के साथ द्विपक्षीय बैठक
  • ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की साइडलाइन पर हुई द्विपक्षीय बैठक
  • ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल की बैठक में भी पीएम मोदी हिस्सा ले रहे हैं

डिजिटल डेस्क, ब्रासीलिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के मौके पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो के साथ द्विपक्षीय बैठक की। पुतिन के साथ बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि लगातार मुलाकातों ने हमारे संबंधों को मजबूत किया है। पीएम मोदी दो दिन की यात्रा पर ब्राजील आए हैं और इस दौरान वह ब्रिक्स के 11वें सम्मेलन में हिस्सा लेने के साथ साथ ब्रिक्स नेताओं की ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल की बैठक में भी हिस्सा ले रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा, राष्ट्रपति पुतिन के साथ एक्सीलेंट मीटिंग हुई। बातचीत के दौरान, हमने भारत-रूस संबंधों की समीक्षा की। भारत और रूस व्यापार, सुरक्षा और संस्कृति जैसे क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर सहयोग कर रहे हैं। दोनों देशों के लोग करीबी द्विपक्षीय संबंधों के कारण लाभान्वित होंगे।

यह छठी बार है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग ले रहे हैं। ब्रिक्स पांच उभरती बड़ी अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका का समूह है। ब्रिक्स समूह का पहला औपचारिक शिखर सम्मेलन येकतेरिनबर्ग रूस में 14 जून 2009 में हुआ था। जिसका मुद्दा 'वैश्विक आर्थिक स्थिति और वित्तीय संस्थाओं में सुधार' था।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ब्राजील के राष्ट्रपति के अलावा पीएम मोदी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ भी द्विपक्षीय बैठक करने वाले हैं। वह ब्रिक्स बिजनेस फोरम क्लोजिंग सेरेमनी और ग्यारहवीं ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के 'क्लोज्ड' और प्लेनरी सेशन में भी शामिल होंगे। क्लोज्ड सेशन में समकालीन विश्व में राष्ट्रीय संप्रभुता के लिए चुनौतियों और अवसरों पर चर्चा होने की संभावना है।

इसके बाद ब्रिक्स प्लेनरी सेशन होगा, जहां नेता ब्रिक्स सोसाइटी के आर्थिक विकास के लिए इंट्रा-ब्रिक्स सहयोग पर चर्चा करेंगे। ब्रिक्स देशों की व्यापार और निवेश संवर्धन एजेन्सियों के बीच करार पर हस्ताक्षर किये जायेंगे। ब्रिक्स में पांच उभरती हुई अर्थव्यवस्था शामिल हैं जिनमें दुनिया की 42 प्रतिशत आबादी रहती है। इनका सकल घरेलु उत्पाद दुनिया के सकल घरेलु उत्पाद का 23 प्रतिशत है और इनका विश्व व्यापार में हिस्सा 17 फीसदी है।

कैसे हुई ब्रिक्स की शुरुआत
ब्रिक्स की चर्चा साल 2001 में अर्थशास्त्री जिम ओ नील द्वारा ब्राजील, रूस, भारत और चीन की अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास की संभावनाओं पर एक रिपोर्ट में की गई थी। साल 2006 में चार देशों ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की सामान्य बहस के अंत में विदेश मंत्रियों की वार्षिक बैठकों के साथ एक नियमित अनौपचारिक राजनयिक समन्वय शुरू किया। पहला BRIC शिखर सम्मेलन साल 2009 में रूस के येकतेरिनबर्ग में हुआ। दिसंबर 2010 में दक्षिण अफ्रीका को ब्रिक में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया और इसे BRICS (ब्रिक्स) कहा जाने लगा।

अबतक हुए ब्रिक्स शिखर सम्मेलन :

14 जून 2009 - रूस (येकतेरिनबर्ग)
16 अप्रैल 2010 - ब्राजील (ब्रासीलिया)
14 अप्रैल 2011 - चीन (सान्या)
29 मार्च 2012 - भारत (नई दिल्ली)
26-27 मार्च 2013 - दक्षिण अफ्रीका (डरबन)
14-16 जुलाई 2014 - ब्राजील (फोर्टलीजा)
8-9 जुलाई 2015 - रूस(ऊफा)
15-16 जुलाई 2016 - भारत (गोवा)
3-5 सितंबर 2017 - चीन(श्यामन)
25-27 जुलाई 2018 दक्षिण अफ्रीका (जोहान्सबर्ग) 

कमेंट करें
UnMV6