दैनिक भास्कर हिंदी: State of the Union: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का तीसरा स्टेट ऑफ यूनियन को संबोधन, स्पीकर पेलोसी को किया इग्नोर

February 5th, 2020

हाईलाइट

  • अमेरिका दुनिया में तेल और नेचुरल गैस के उत्पादन में नंबर-1 हो गया है- ट्रंप
  • अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश तेज की है- राष्ट्रपति ट्रंप

डिजिटल डेस्क,वॉशिंगटन। अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) ने संसद के दोनों सदनों हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स(House of Representatives) और सीनेट(Senate) के साझा सत्र को संबोधित किया। ट्रंप का यह तीसरा स्टेट ऑफ द यूनियन(State of the Union) को संबोधन था। डोनाल्ड ने कहा कि मैंने राष्ट्रपति पद संभालते ही अमेरिका की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश तेज की है। उन्होंने कहा, मैंने नौकरियों को खत्म करने वाले रिकॉर्ड नियामकों में बदलाव और टैक्स में कमी की है। राष्ट्रपति ने कहा कि आज अमेरिका दुनिया में तेल और नेचुरल गैस के उत्पादन में नंबर-1 हो गया है। 

स्पीकर नैंसी पेलोसी को किया इग्नोर
संबोधन शुरू करने से पहले स्पीकर नैंसी पेलोसी(Nancy Pelosi) ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से हाथ मिलाने के लिए आगे बढ़ाया, लेकिन ट्रंप ने उन्हें इग्नोर कर दिया। बता दें आज दोनों सदनों में ट्रंप के महाभियोग प्रस्ताव पर वोटिंग होगी। इससे पहले राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही सीनेट में चलाए जाने के पक्ष में 228 सांसदों ने और विपक्ष में 193 सांसदों ने वोट किया था। 

क्या है राष्ट्रपति ट्रंप पर आरोप?
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर 18 दिसंबर 2019 को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने महाभियोग लगाया था। राष्ट्रपति पर दो आरोप हैं। पहला आरोप हैं कि उन्होंने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में संभावित उम्मीदवार जो बिडेन के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच के लिए यूक्रेन सरकार पर दबाव बनाया था। ट्रंप और यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडीमिर जेलेंस्की के बीच फोन पर हुई बातचीत एक अहम सबूत है। वहीं दूसरा संसद के काम में रुकावट पैदा की। 

Australia Fire: जंगल में भीषण आग से 50 करोड़ जानवरों की मौत, तस्वीरें देख आंसू रोक नहीं पाएंगे

कैसे महाभियोग चलाया जाता है?
अमेरिकी संसद के निचले सदन के पास ही महाभियोग लगाने की शक्ति होती है। हाउस ज्यूडिशियरी कमेटी की महाभियोग की कार्यवाही की जिम्मेदारी होती है। सदन के 435 सदस्यों के बहुमत से सदन बहस और वोट करता है। सदन में एक अधिकारी के खिलाफ आरोप लाने वाली जूरी के रूम में काम करता है। संसद के उच्च सदन के पास सभी महाभियोगों की शक्ति है। जब किसी राष्ट्रपति पर मुकदमा चलाया जाता है, तब सर्वोच्च न्यायालय के चीफ जस्टिस कार्यवाही की अध्यक्षता करते हैं। 

तीन राष्ट्रपतियों पर चला महाभियोग
अमेरिका के इतिहास में अबतक कुल तीन राष्ट्रपतियों पर महाभियोग चलाया गया है। एंड्रयू जॉनसन, बिल क्लिंटन और डोनाल्ड ट्रंप। जॉनसन और क्लिटंन को सीनेट ने पद से नहीं हटाया था। वहीं राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने महाभियोग से बचने के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। 

Coronavirus: इस चटोरी महिला ने फैलाया कोरोना वायरस! भूख लगने पर पिया था चमगादड़ का सूप

अबतक आठ अधिकारियों को पद से हटाया 
सदन में 50 से अधिक बार महाभियोग की कार्यवाही हुई है। अबतक केवल आठ अधिकारियों को दोषी पाकर पद से हटाया गया है। सभी अधिकारी संघीय न्यायाधीश थे। बता दें महाभियोग राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और अमेरिका के सभी अधिकारियों के खिलाफ चलाया जा सकता है। 

कैसे राष्ट्रपति को पद से हटाया जा सकता है?
राष्ट्रपति को पद से हटाने के लिए 100 सीटों वाली सीनेट में दो-तिहाई बहुमत विरोध में हुए। ऐसे में राष्ट्रपति को पद छोड़ना पड़ता है। बता दें डोनाल्ड ट्रंप को हटाने काफी मुश्किल है। ऊपर सदन यानी सीनेट में उनकी पार्टी रिपब्लिकंस के 53 सांसद हैं। वहीं विपक्ष डेमोक्रेटस के 45 सांसद हैं।