असम में बवाल: असम पुलिस की गोलीबारी में मेघालय के 6 नागरिकों की मौत, दोनों राज्यों के बीच तनातनी, इंटरनेट बंद

November 22nd, 2022

हाईलाइट

  • दोनों राज्यों में तनाव

डिजिटल डेस्क, गुवाहाटी। असम के वनरक्षकों की फायरिंग में मेघायल के 6 लोगों की मौत हो गई है। इस घटना के बाद दोनों राज्यों के बीच तनातनी बढ़ सकती है। मेघालय के पश्चिम जयंतिया हिल्स के मुकरोह गांव में यह घटना हुई है। इसके बाद से इलाके में तनाव बढ़ गया है। शांति व्यस्था को बनाए रखने के लिए 7 जिलों में इंटरनेट बंद करना पड़ा है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि यह घटना मंगलवार को सुबह करीब 7 बजकर 30 मिनट पर हुई थी। जब ग्रामीण जंगल से छोटे ट्रकों में लकड़ियां भरकर लौट रहे थे। असम के फॉरेस्ट गॉर्ड ने जिस इलाके में गोलीबारी की थी, वह मेघायल का ही हिस्सा था। इस इलाके को लेकर असम व मेघालय हमेशा आमने-सामने रहते हैं।

कैसे हुई घटना?

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, असम के वनरक्षकों ने गाड़ियों के टायरों पर गोलियां मारीं, जिससे उनके पहिए वहीं धंस गए। इस पर ट्रक के ड्राइवरों व लकड़िया लेकर वापस आ रहे ग्रामीणों जोर से शोर मचाया। इस पर आसपास के लोग इकट्ठा हो गए। भीड़ में खुद को घिरता देख वनरक्षकों ने फायरिंग कर दी। एएनआई न्यूज के मुताबिक, फायरिंग की चपेट में आने से 6 लोगों की मौके पर मौत हो गई। हालांकि खबर ये भी है कि ग्रामीणों ने वनरक्षकों पर भी हमला कर दिया, जिसमें फॉरेस्ट गॉर्ड बुरी तरह से घायल हो गए। इस घटना की पुष्टि खुद मेघालय डिप्टी आईजी डेविस एनआर मारक ने भी की है। उन्होंने इस घटना पर दुख जताया है। 

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

वनरक्षकों व ग्रामीणों के बीच जारी संघर्ष का सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि ग्रामीणों व वनरक्षकों की बीच झड़प हो रही है। एक वीडियो में दिख रहा है कि कैसे वनरक्षक राइफल से गोलियां चला रहे हैं। वह भीड़ को तत्काल हटने के लिए कहते है और गोलियां चला देते हैं। वीडियो में एक ग्रामीण कहता है कि वनरक्षकों ने राइफलें निकाल ली हैं और गोलीबारी कर सकते हैं। देखते ही देखते वनरक्षकों ने फायरिंग कर दी, इसके बाद भगदड़ मच जाती है। इस फायरिंग में कुछ लोगों को गोलियां लग गई। जिसमें कई लोगों की मौत हो गई। जिस वजह से माहौल गरम हो गया।

पीड़ित परिजन को पांच लाख की मदद का ऐलान

फायरिंग की घटना के बाद पूरे देश में हलचल तेज है। मेघालय के सीएम कोनराड संगमा ने संज्ञान में लेते हुए अधिकारियों की एक उच्चस्तरीय मीटिंग बुलाई है। उन्होंने मेघायल के सात जिलों में इंटरनेट सेवा बंद करने का आदेश दिया है। इसके अलावा मेघालय सरकार की ओर से पीड़ित परिजन को पांच लाख की सहायता राथि देने का ऐलान किया है।