दैनिक भास्कर हिंदी: उत्तर भारत में ठंड का जानलेवा कहर जारी, 24 घंटे में 70 लोगों की मौत

January 7th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में सर्दी का जानलेवा कहर जारी है। शनिवार की बात करें तो दिल्ली में पारा 6 डिग्री सेल्सियस से नीचे पहुंच गया है। वहीं उत्तर प्रदेश के कानपूर, लखनऊ, नोएडा, झांसी, बनारस समेत कई हिस्सों में भी कड़ाके की ठंड अपना कहर बरपा रही है। उत्तर भारत की बात करें तो सिर्फ यूपी में ही 24 घंटे के अंदर 70 बेसहारा लोगों की मौत हो चुकी है। सिर्फ पूर्वांचल की बात करें तो इतने ही समय में यहां भी 22 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। जबकि बुंदेलखंड क्षेत्र में 28, बरेली डिविजन में 3, इलाहाबाद डिविजन में 11 लोगों की मौत हो गई है।

उत्तरप्रदेश में रैनबसेरों की कमी और ठंड से बचाव के उपायों की कमी के चलते बेसहारा लोगों पर अभी भी ठंड का कहर जारी है। हालांकि, इसे लेकर कोई भी अधिकारी खुलकर बोलने को तैयार नहीं है। पिछले 24 घंटों में सुल्तानपुर जिला सबसे ठंडा रहा, जहां तापमान 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। लखनऊ में तापमान 3 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग के मुताबिक अभी कुछ दिनों तक ठंड से राहत नहीं मिलेगी। 10 जनवरी के बाद से ही हालात कुछ सुधरने की उम्मीद है।

कानपुर में भी शुक्रवार को सुबह से रात तक बर्फीली हवाएं चलती रहीं। इन हवाओं ने ऐसा कहर बरपाया कि गलन से हर कोई बेहाल हो उठा। कानपुर में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान रिकॉर्ड तोड़ता हुआ 4.2 पर पहुंच गया और सीजन का सबसे ठंडा दिन दर्ज हो गया। हाड़कंपाऊ सर्दी से जनजीवन बेहाल हो गया।

एक सरकारी अधिकारी ने हालांकि यह दावा किया कि ठंड से बचाव के लिए हर जिले में पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं, लेकिन लोगों की ठंड की वजह से हो रही मौत ने इन सारे दावों की पोल खोल दी है। अगर बात करें तो बाराबांकी में 40 वर्षीय राम किशोर रावत और 30 वर्षीय महेश की ठंड की वजह से मौत हो गई। फैजाबाद जिले के हरचंदपुर में एक व्यक्ति की मौत हो गई। अंबेडकर नगर में एक जबकि रायबरेली और ऊंचाहार में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई।

लोगों द्वारा आरोप लगाने के बाद लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने नगर आयुक्त से इस संबंध में रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने कहा कि लोगों की शिकायतें आ रही हैं कि सार्वजनिक जगहों पर अलाव नहीं जलाए जा रहे हैं। इसकी जल्द से जल्द व्यवस्था कराई जाएगी।