comScore

महाराष्ट्र पुलिस का खुलासा- एक्टिविस्ट देना चाहते थे राजीव गांधी हत्याकांड जैसी घटना को अंजाम

September 01st, 2018 07:58 IST
महाराष्ट्र पुलिस का खुलासा- एक्टिविस्ट देना चाहते थे राजीव गांधी हत्याकांड जैसी घटना को अंजाम

हाईलाइट

  • भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार किए गए वामपंथी विचारकों को लेकर देशभर में बहस छिड़ी हुई है।
  • इस बीच शुक्रवार को महारष्ट्र पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इन गिरफ्तारियों को सही बताया।
  • ADG ने कहा कि एक्टिविस्ट राजीव गांधी जैसी घटना को अंजाम देना चाहते थे।

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार किए गए वामपंथी विचारकों को लेकर देशभर में बहस छिड़ी हुई है। इस बीच शुक्रवार को महारष्ट्र पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इन गिरफ्तारियों को सही बताया। महाराष्‍ट्र के एडीजी (कानून और व्‍यवस्‍था) परमवीर सिंह ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई सबूतों के आधार पर की गई है।   एडीजी ने कहा कि पुलिस के पास ऐसे हजारों दस्तावेज हैं जिससे यह साबित होता है कि सुधा भारद्वाज, गौतम नवलखा, वरवर राव, वरनान गोंसाल्विस और अरूण परेरा प्रतिबंधित कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया ( माओवादी) के सक्रिय सदस्य हैं। इन लोगों की साजिश कानून-व्यवस्था को बिगाड़कर सरकार गिराने की थी। ADG ने कहा कि एक्टिविस्ट पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी जैसी घटना को अंजाम देना चाहते थे। एक आतंकवादी संगठन भी इस साजिश में इन लोगों के साथ शामिल था।


पत्र में हथियार खरीददारी का जिक्र
एडीजी ने प्रेस कांफ्रेंस में कुछ पत्र भी दिखाए जिसमें हथियारों की खरीददारी के बारे में बात की गई है। ADG ने कहा, एक्टिविस्ट एम-4 ग्रेनेड लांचर के चार लाख राउंड खरीदना चाहते थे। इनके पास पहले से ही रूस निर्मित जीएम-94 ग्रेनेड लांचर है। यह पत्र रोना विल्‍सन ने कॉमरेड प्रकाश को लिखा था। एडीजी ने कहा कि इन पत्रों से जाहिर होता है कि ये एक्टिविस्ट माओवादियों के साथ संपर्क में थे और कानूनी रूप से चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे थे। एक अन्‍य पत्र में राजीव गांधी जैसी घटना का भी जिक्र किया गया है। इन पत्रों में कश्‍मीरी अलगाववादियों के साथ मिलकर हमले करने की भी बात कही गई है। सिंह ने कहा कि रेड के दौरान बहुत सा साहित्य सीज किया गया है।

हार्डडिस्क से हुआ खुलासा
सिंह ने बताया कि इसी साल 17 अप्रैल को हुई कार्रवाई में सुधीर धवले, सोमा सेन, सुरेन्द्र गाडलिंग, रोना विल्सन आदि की गिरफ्तारी और जब्त किए गए हार्डडिस्क से घातक हथियार खरीदे जाने का पता चला था। 17 मार्च 2017 को रोना विल्सन ने वरावर राव को हथियार खरीद के संबंध में पत्र भेजा था। सभी पत्राचार हार्डडिस्क से खोज निकाला गया है। यह पुलिस की बड़ी कामयाबी है। एडीजी सिंह ने कहा कि 6 जून को पांच लोगों गिरफ्तारी के दौरान जब्त की गई सामग्री का पंचनामा कराकर फोरेंसिक लेबोरेटरी में भेजा गया था। इसकी मूल प्रति फोरेंसिक लैब में है। वहां से हमें क्लोन कॉपी प्राप्त हुई है। क्लोन कॉपी के आधार पर 23 अगस्त को सुधा भारद्वाज, गौतम नवलखा, वरावर राव, अरूण परेरा और वरनान गोंसाल्विस के नाम एफाईआर मे जोड़े गए। उसके बाद 29 अगस्त को एक साथ 9 स्थानों पर छापेमारी की गई है। सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 5 सितंबर तक का समय दिया है। हमें विश्वास है कि इन सबूतों के आधार पर कोर्ट से इन आरोपियों की हिरासत मिल सकेगी। सुप्रीम कोर्ट में इस संबंध में हलफनामा भी दिया जाएगा कि पुलिस 90 से 180 दिन में अपनी जांच पूरी कर लेगी।

सुधा भारद्वाज का अलगाववादियों से संबंध
सुप्रीम कोर्ट के आदेश से घर में नजरबंद की गई फरीदाबाद की सुधा भारद्वाज द्वारा कामरेड प्रकाश को लिखा गया पत्र पुलिस के हाथ लगा है। जिसमे कहा गया है कि कश्मीर में हमारे दुश्मनों (सेना) के खिलाफ हमारा अभियान सही चल रहा है और छत्तीसगढ़ के जगदलपुर और बस्तर में भी काम अच्छे से चल रहा है। संगठन के वकील से भी बराबर संपर्क में हैं। 21 साल की मेरी बेटी की बीमारी में काफी पैसे खर्च हो गए। प्रशांत कि गिरफ्तारी के बाद पैसे मिलने बंद हो गए हैं। पैसे जल्दी भेजवाया जाए। नोटबंदी के दौरान नक्सलियों को पैसे के लाले पड़ गए थे। इसको लेकर वरवरा राव ने सेंट्रल कमेटी को पत्र लिखकर शिकायत की थी। इसके बाद 17 मार्च 2017 को सुरेन्द्र गाडलिंग ने वरवरा राव को पत्र लिखा था कि नोटबंदी के चलते छत्तीगढ़ और गढ़चिरोली में पैसे नहीं भेज पाए। हमने पैसे रखे है और अब भेजना शुरु किया है।

भीमा-कोरेगांव हिंसा के लिए दिए गए थे 15 लाख रूपए
महाराष्ट्र पुलिस मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में एडीजी सिंह ने बताया कि भीमा-कोरेगांव में यलगार परिषद के आयोजन के लिए कबीर कला मंच को दो बार में 15 लाख रूपए दिए गए थे। 16 मार्च 2018 को कामरेड प्रकाश को भेजे गए पत्र से इसका खुलासा हुआ है। उन्होंने बताया कि पांच लाख रूपए की रकम पहले दी गई थी उसके बाद 10 लाख रूपए दिए गए थे। सिंह ने कहा कि यह रकम सुधीर धवले, सोमा सेन और सुरेन्द्र गाडलिंग को कैश में भेजे गए थे। वामपंथी विचारधारा के लोगों ने देश में अराजकता फैलाने के लिए फ्रांस की राजधानी पेरिस में भी बैठक की थी। इसके अलावा इनके रूस, चीन, म्यानमार और नेपाल में भी बैठक करने के सूबत मिले हैं।संगठनों को पैसे भेजे जाते थे।

कश्मीर-मणिपुर के आंतकियो से हैं माओवादियों के संबंध
देश में अराजकता फैला कर मोदी सरकार गिराने की साजिश में जुटे माओवादियों के देश में सक्रिय आतंकी संगठनों से भी संबंध थे। महाराष्ट्र पुलिस ने कहा कि इसको लेकर हमारे पास पुख्ता सबूत हैं। महाराष्ट्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक परमबीर सिंह ने बताया कि माओवादियों की गिरफ्तारी के वक्त हमें जो कागजात मिले हैं उससे पता चलता है कि इनके कश्मीर व मणिपुर में सक्रिय अलगाववादी आतंकी संगठनों से भी संबंध थे। इनके पास से बरामद पत्रों में कश्मीर की तरह देश के अन्य हिस्सों में पत्थरबाजी की योजना का उल्लेख है। पुलिस द्व्रारा गिरफ्तार सुधा भारद्वाज द्व्रारा लिखे एक पत्र में कहा गया है कि कामरेड अंकित और गौतम नवलखा कश्मीर के अलगाववादियों के सम्पर्क में हैं। गिरफ्तार आरोपी लोगों के ब्रेनवाश करते थे। दिल्ली के जेएनयू के छात्रों को जंगलों में ट्रेनिंग दिए गए थे। इनका इस्तेमाल भूमिगत कार्यों के लिए  किया जाता था। नक्सलियों को आर्थिक मदद को लेकर लिखे कई पत्र पुलिस के हाथ लगे हैं। इससे पता चलता है कि कैसे और किस प्रकार नक्सली संगठनों को पैसे भेजे जाते थे।

नए नहीं हैं शहरी माओवादी
सिंह ने कहा कि शहरी माओवादी शब्द नया नहीं है। उन्होंने कहा कि 20 साल पहले महाराष्ट्र के नक्सलग्रस्त चंद्रपुर-भंडारा में तैनाती के दौरान भी मैंने शहरी माओवादियों के खिलाफ कदम उठाए थे। ये लोग लोगों को भड़काने का काम करते थे। 1991 में चंद्रपुर में हुए मुठभेड़ में ऐसे लोग मारे गए थे।

नक्सलियों के पत्रों से साजिश का खुलासा नागपुर की बैठक में भी मांगे थे पैसे
प्रेस कांफ्रेस के दौरान सिंह ने कामरेड प्रकाश को सुधा भारद्वाज द्वारा हिंदी में  लिखे पत्र को दिखाते हुए पत्र में लिखी बाते पढ़ कर सुनाई। जिसमें लिखा है कि ‘कामरेड प्रशांत की गिरफ्तारी के बाद मुझे पैसे मिलने बंद हो गए हैं। नागपुर की मिटिंग में कामरेड सुरेंद्र ने भी पैसे देने से इंकार कर दिया। हथियारों की खरीदारी को लेकर भी पत्र लिखे गए। रोना विल्सन ने कामरेड प्रकाश को अंग्रेजी में लिखे पत्र में कहा था कि ‘8 करोड़ रुपए ग्रेनड लांचर के लिए चाहिए। जिससे मोदी राज खत्म करने के लिए राजीव गांधी हत्याकांड जैसी वारदात को अंजाम दिया जा सके।’। विल्सन के लैपटॉप से विदेशी हथियारों के कैटलॉग मिले हैं। जिससे पता चलता है कि वे रुसी ग्रेनेड लांचर, चीनी ग्रेनेड, मशीनगन खरीदने की योजना बना रहे थे। इन हथियारों की सप्लाई नेपाल से होने वाली था। सिंह ने बताया कि पुलिस के पास नक्सलियों के ऐसे हजारों पत्र हैं। उन्होंने कहा कि गिरफ्तार माओवादियों की हिरासत के बाद और जानकारियां मिल सकेंगी। भूमिगत होकर कार्य कर रहे मिलिंद तुंबले को रोना विल्सन द्व्रारा लिखे पत्र में कहा गया है कि भीमा-कोरगांव प्रदर्शन काफी सफल रहा। दलित भावना आरएसएस वादी ब्राम्हणों के खिलाफ हो चुकी है। 

कमेंट करें
QmhjO
NEXT STORY

ये हैं हॉकी की रियल 'चक दे' गर्ल्स, जानिए किन संघर्षों के बीच किया मैदान तक का सफर, जीत के क्या हैं इरादे?

ये हैं हॉकी की रियल 'चक दे' गर्ल्स, जानिए किन संघर्षों के बीच किया मैदान तक का सफर, जीत के क्या हैं इरादे?

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला टीम ने क्वार्टर फाइनल में विश्व की नंबर 2 टीम ऑस्ट्रेलिया को हरा कर सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाकर एक नया इतिहास रच दिया है। 41 सालों के बाद भारतीय टीम सेमीफाइनल तक पहुची है। अब जानते है उन महिला खिलाड़ियो के बारे में जिन्होंने टीम को जिताने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।  

रानी रामपाल ( कैप्टन)

रानी रामपाल भारतीय हॉकी टीम की कैप्टन हैं। जिन्हें भारतीय हॉकी टीम की रानी भी कहा जाता है। रानी रामपाल हरियाणा के शाहबाद मारकंडा की रहनी वाली हैं। रानी एक मिडिल क्लास फैमिली से हैं और उनकी जिन्दगी संघर्ष भरी रही है। रानी के घर में उनके पिता और दो बड़े भाई हैं।सबसे बड़े भाई बढ़ई हैं और दूसरे भाई किसी दुकान पर काम करता हैं। इसके साथ ही रानी के पिता एक तांगा चलाते हैं। बता दें कि रानी ने 14 साल की उम्र में ही अपना पहला इंटरनेशनल मैच खेल लिया था। और हाल ही में रानी की कप्तानी में भारतीय हॉकी टीम ने फिर कमाल कर दिखाया है।  

rani

सविता पूनीया
हरियाणा की सविता पूनीया भारतीय हॉकी टीम की गोलकीपर हैं। सोमवार को टोक्यो ओलंपिक में अपना शानदार प्रदर्शन दिखाते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खड़ी रहीं और भारत को जीत दिलाई। दुनिया की दूसरे नंबर पर आने वाली महिला हॉकी टीम ऑस्ट्रेलिया के सामने भारत ने अपना उच्च प्रदर्शन दिखाते हुए पहले क्वार्टर में ऑस्ट्रेलिया को आगे नही बढ़ने दिया और दूसरे क्वार्टर में अच्छा प्रदर्शन करते हुए गोल भी मारा। सविता पूनीया मैच की हीरो रहीं क्योंकि उन्होंने सात पेनल्टी कॉर्नर के बावजूद ऑस्ट्रेलिया का गोल नहीं करने दिया। 

savita

वंदना कटारिया 
टोक्यो ऑलंपिक में दक्षिण अफ्रीका के साथ हुए मुकाबले में फॉर्वर्ड खिलाड़ी वंदना कटारिया ने जोरदार परफॉर्मेस दिया और 3 गोल दागकर भारत की जीत को तय किया। वंदना कटारिया पहली ऐसी महिला बन गई हैं जिन्होंने ओलंपिक मैच में हैट्रिक जमाई और शानदार खेल का प्रदर्शन कर भारतीय महिला हॉकी टीम के क्वालीफाई की उम्मीद को जिंदा रखा। वंदना के साथ नेहा ने भी भारत की जीत के लिए नींव रखी। 

vandana

मोनिका मलिक 
मोनिका मलिक ने 2013 में जूनियर विश्व कप में कांस्य पदक जीता और 2013 में ही आयोजित तीसरी एशियन चैम्पियनशिप ट्रॉफी में रजत पदक जीता। 2014 में भोपाल में हुए चौथे सीनियर नेशनल गेम्स में रजत पदक जीता। इस प्रतियोगिता में उन्हें सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का खिताब भी मिला। 2014 में दक्षिण कोरिया में आयोजित 17वें एशियन गेम्स में उन्होंने कास्य पदक जीता। मोनिका ने कहा था कि यह पहली बार है जब भारतीय टीम को ओलंपिक में खेलने का मौका मिला। और अब टीम ने ओलंपिक का अनुभव भी हासिल कर लिया है, जिसका फायदा उन्हें टोक्यो ओलंपिक में मिल सकता है। मोनिका इस ओलंपिक में उसी तजुर्बे का फायदा उठाती नजर आ रही हैं। मोनिका मलिक अर्जेंटीना की प्रसिद्ध खिलाड़ी आइमर को अपनी आदर्श मानती हैं। 

image

NEXT STORY

82 हजार के लहंगे में तारा सुतारिया लगी बेहद बोल्ड, जीता फैंस का दिल

82 हजार के लहंगे में तारा सुतारिया लगी बेहद बोल्ड, जीता फैंस का दिल

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड की खूबसूरत और टैलेंटेड एक्ट्रेस तारा सुतारिया को उनकी एक्टिंग के साथ साथ उनके फैशन सेंस के बारे भी जाना जाता है। तारा हर तरह की ड्रेस में खूब जंचती हैं फिर चाहें वो वेस्टर्न हो या इंडियन। और वह अक्सर अपने लुक को शेयर करती रहती हैं। तारा ने हाल ही में अपने एक नए लुक को शेयर किया है, जिसमें उन्होंने एक ऑरेंज कलर का बहुत ही सुन्दर लहंगा पहना है। लहंगे के साथ तारा ने ब्रोकेड ब्लाउज पहना है और साथ में एलिगेंट दुपट्टा गले में डाला हुआ है। इस लहंगे में तारा बेहद खुबसूरत दिख रही है।

tara

तारा का यह लहंगा डिजाइनर ऋतू कुमार के लेबल का है। इस लहंगे के ब्लाउज में डीप नैकलाइन और मैट गोल्ड कढ़ाई का भी काम हुआ है। इसकी स्लीव्स छोटी और डिजाइनर हैं। इसके दुपट्टे में भी कढ़ाई का खूबसूरत काम किया गया है। 

Tara Sutaria Sizzles In Ethnic Wear As Cover Star On Leading Magazine, See Her Gorgeous Pics

तारा ने इस लहंगे के साथ गोल्ड के इयररिंग्स और चूड़ियां कैरी की हैं जो उनके लुक को और भी एलिगेंट लुक दे रही हैं। उन्होंने बालों का बन बनाया हुआ है जिसमें फूल लगे हुए हैं। इसके साथ तारा ने न्यूड मेकअप किया है और होठों पर न्यूड लिप्स्टिक लगाई हुई है और माथे पर एक छोटी सी बिंदी भी तारा ने लगाई है।

7 outfits that highlight Tara Sutaria's wedding guest style | Vogue India

इस ऑरेंज कलर के रॉयल लुक वाले लहंगे की कीमत 81,900 रुपये है और इसे डिजाइनर ऋतु कुमार की वेबसाइट से खरीदा जा सकता है।
Tara Sutaria Pink Color Festival Wear Lehenga Choli

तारा सुतारिया के अगर करियर की बार करें तो इन्होंने बॉलीवुड में अभी तक दो फिल्में की हैं। तारा की पहली फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर थी और दूसरी फिल्म थी मरजावां जिसमें तारा अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ नजर आई थीं।

Tara Sutaria in lehenga worth Rs 6 lakh is every bride-to-be's dream. See pics - Lifestyle News

 खबर है कि तारा जल्द ही अपनी नई फिल्म एक विलेन रिटर्न्स और तड़प में नजर आने वाली हैं। बता दें कि फिल्म एक विलेन रिटर्न्स में तारा के साथ जॉन अब्राहम और अर्जुन कपूर दिख सकते हैं। जबकि फिल्म तड़प में तारा के साथ सुनील शेट्टी के बेटे अहान शेट्टी दिख सकते हैं।