दैनिक भास्कर हिंदी: थर्ड फ्रंट बनाने की कवायद तेज, तेलंगाना सीएम केसीआर से मिलेंगे अखिलेश

May 2nd, 2018

डिजिटल डेस्क, हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के सुप्रीमो के. चंद्रशेखर राव (KCR) ने 2019 लोकसभा चुनावों से पहले थर्ड फ्रंट (तीसरा मोर्चा ) बनाने की कवायद तेज कर दी है। इसी के चलते अब वो समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव से बुधवार को मुलाकात करेंगे। दोनों नेता हैदराबाद के प्रगति भवन में फेडरल फ्रंट स्थापित करने को लेकर बातचीत करेंगे। 

 



एमके स्टालिन से मिल चुके हैं केसीआर

केसीआर इसी हफ्ते ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक से भी मुलाकात करेंगे। इससे पहले 29 अप्रैल यानि रविवार को सीएम केसीआर ने DMK नेता और पूर्व सीएम करुणानिधि और स्टालिन से मुलाकात की थी। खबरों के मुताबित इस दौरान भी नेताओं के बीच 'तीसरा मोर्चा' बनाने के मुद्दे पर ही विस्तार से चर्चा हुई थी। सीएम केसीआर भोजन के कार्यक्रम पर DMK के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन के घर पहुंचे थे। इससे पहले उन्होंने करूणानिधि से मुलाकात की थी। 

 


स्टालिन केसीआर के विचारों से सहमत 

मुलाकात के बाद स्टालिन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया था कि उनके बीच राजनीतिक मुद्दे पर चर्चा हुई है।  केसीआर ने धर्मनिरपेक्षता और संघीय मोर्चे पर बात की है। स्टालिन ने कहा था वो चंद्रशेखर राव के विचारों से पूरी तरह सहमत हैं और केंद्र से बीजेपी के सेक्यूलर सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए ममता बनर्जी की कोशिशों के साथ हैं। उन्होंने कहा कि डीएमके के बाद तमिलनाडु में और भी कुछ दल हैं जो बीजेपी के खिलाफ गठबंधन में शामिल हो सकते हैं। हम उन पार्टियों के साथ सीएम केसीआर की तीसरे मोर्चे की विचारधारा को लेकर चर्चा करेंगे। DMK की उच्च स्तरीय समिति के साथ चर्चा करने के बाद वो केसीआर को जवाब देंगे।

 



एचडी देवगौड़ा से कर चुके हैं मुलाकात

केसीआर पिछले हफ्ते जनता दल सेक्युलर (JDS) के चीफ एचडी देव गौड़ा से भी मुलाकात कर चुके हैं। जिसके बाद उन्होंने कहा था कि  कांग्रेस और बीजेपी ने देश को बुरी तरह विफल कर दिया है। कांग्रेस और बीजेपी ने देश में 65 साल तक राज किया और वो देश चलाने में पूरी तरह विफल रहे।  

 



ममता बनर्जी से भी कर चुके हैं बात 

जानकारी के मुताबिक राव पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी मिल चुके हैं। उन्होंने कहा था कि हम दृढ़ हैं भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश होना चाहिए इसके लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं है। मार्च में मुलाकात के बाद ममता ने भी सभी विपक्षी दलों से एनडीए के खिलाफ मिलकर काम करने का आग्रह किया था।

रामदेव बाबा ने दिए सपोर्ट के संकेत

जानकारी के मुताबिक 10 अप्रैल को योगगुरु बाबा रामदेव ने सीएम राव की बेटी निजामाबाद के सांसद के कविता से मिले थे। इस दौरान उन्होंने भी तीसरे मोर्चे के सपोर्ट करने का इशारा किया था।


कांग्रेस- बीजेपी से अलग विकल्प की तैयारी 

बता दें कि राव गैर बीजेपी, गैर कांग्रेसी गठबंधन बनाने की कोशिश के तहत सभी राज्यों के नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं।  तमिलनाडु में डीएमके और कांग्रेस का गठबंधन है और 2016 के विधानसभा चुनाव को दोनों ने साथ मिलकर लड़ा था। गौरतलब है कि चंद्रशेखर राव ने कहा था कि 2019 चुनावों के लिए लोग देश में बदलाव चाहते हैं। मैं एक समान विचाराधार वाले लोगों की बात कर रहा हूं यदि आवश्यक हो तो मैं आंदोलन का नेतृत्व करने को तैयार हूं। अगर लोग पीएम मोदी से गुस्‍सा हो गए तो राहुल गांधी या कोई और गांधी नया पीएम बन जाएगा। 

तीसरा मोर्चा कोई सामान्य मोर्चा नहीं

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर राव ने कहा था कि ये कोई सामान्य राजनीतिक मोर्चा नहीं होगा बल्कि भारत की जनता के लिए काम करेगा। ये तीसरा मोर्चा देश के लोगों के साथ आएगा। उन्होंने इस बात का भी संकेत दिया कि 2019 से पहले वो किसानों के लिए बड़ा एजेंडा लेकर सामने आएंगे। पिछले महीने सीएम राव ने कहा था कि थर्ड फ्रंट लाने का उनका विचार देश के लोगों के लिए होगा। 

क्षेत्रीय पार्टियों को करेंगे एक

केसीआर ने शुक्रवार को टीआरएस के 17वें समग्र गठबंधन दिवस पर कहा था कि वो आने वाले महीनों में सभी क्षेत्रीय दलों को एक कर लेंगे। जिससे देश में एक गुणात्मक बदलाव आएगा और इसके जरिए वो देश के राजनीतिक ढांचे में एक भूचाल पैदा करेंगे।