दैनिक भास्कर हिंदी: AMU में तिरंगा यात्रा निकालने पर विवाद, सांसद ने केंद्रीय मंत्री को लिखा पत्र

January 25th, 2019

हाईलाइट

  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी एक बार फिर से विवादों में घिर गई है।
  • यूनिवर्सिटी के दो छात्रों ने बिना किसी अनुमति के तिरंगा यात्रा निकाली थी।
  • अलीगढ़ के बीजेपी सासंद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ एक्शन लिया है।

डिजिटल डेस्क, अलीगढ़। आए दिन गलत कारणों से सुर्खियों में रहने वाली अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी एक बार फिर से विवादों में घिर गई है। दरअसल यूनिवर्सिटी के दो छात्रों ने बिना किसी अनुमति के तिरंगा यात्रा निकाली थी। जिसके बाद यूनिवर्सिटी ने इन दोनों को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। अब अलीगढ़ के बीजेपी सासंद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ एक्शन लिया है। गौतम ने केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़केर को पत्र लिखा है। पत्र में गौतम ने कहा कि पिछले कुछ समय से यहां का माहौल बेहद दुषित हो गया है। गौतम ने यूनिवर्सिटी प्रशासन पर दोनों छात्रों को जानबूझ कर बदनाम करने आरोप लगाया और कहा कि राष्ट्रीयता की बात होने पर प्रशासन छात्रों के खिलाफ खड़ा हो जाता है।

गौतम ने पत्र में लिखा, 'मेरे लोकसभा क्षेत्र जनपद अलीगढ़ में भारत ही नहीं विश्व में प्रतिष्ठित अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी स्थापित है। विगत कुछ समय से यहां का माहौल कुछ इस प्रकार का बनाया जा रहा है कि यहां का वातावरण बेहद दूषित हो गया है। अनेकों बार कार्यक्रम आयोजित कर देश के खिलाफ खड़ी होने वाली शक्तियों और भारत सरकार के खिलाफ उल जलूल बयानबाजी करने वालों को यहां आमंत्रित किया जाता है, लेकिन जैसे ही राष्ट्रीयता या राष्ट्रहित का कोई कार्यक्रम आयोजित होता है या करने का प्रयास किया जाता है तो पूरा AMU इन्तजामिया उसके खिलाफ खड़ा हो जाता है।' 

गौतम ने केंद्रीय मंत्री से निवेदन करते हुए लिखा, 'कृपया उक्त प्रकरण में AMU प्रशासन से सफाई मांगी जाए कि उनके द्वारा जारी किए गए छात्रों को नोटिस किस मानसिकता के तहत भेजे गए हैं? क्या भारत के किसी भी भूभाग में देशभक्ति का कार्यक्रम आयजित किया जाना असंवैधानिक है?' 

 

 

बता दें कि AMU में कुछ दिन पहले कुछ छात्रों ने कथित तौर पर एक तिरंगा रैली निकाली थी। इस रैली को मास्टर्स ऑफ लॉ फैकल्टी के छात्र और ABVP से जुड़े अजय सिंह लीड कर रहे थे। इसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अजय और उसके एक साथी को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। AMU प्रशासन ने आरोप लगाया था कि इस रैली से उन्होंने यूनिवर्सिटी का माहौल खराब करना चाह था।

AMU में इससे पहले भी कई विवाद हो चुके हैं। कुछ समय पहले यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में रहने वाले छात्रों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए थे। हॉस्टल में रहने वाले छात्रों का कहना है कि मेस में जिस तेल में चिकन तला गया, उसी में पूड़ियां निकालकर शाकाहारी छात्रों को खिलाया गया। छात्रों का कहना था कि उनके धार्मिक भावनाओं से खिलवाड़ किया गया। वहीं इससे पहले जिन्ना के पोस्टर और फिर छात्रों का पाकिस्तानी झंडा लहराने को लेकर काफी विवाद हुआ था। 

खबरें और भी हैं...